Translate

Featured post

“गीता” : एक ‘मानवीय ग्रंथ’ … एक ‘समग्र जीवन दर्शन’ … व ‘मानव समाज की अप्रतिम धरोहर’

            "गीता” का शाब्दिक अर्थ केवल गीत अर्थात् जो गाया जा सके से लिया जाता है । किन्तु आतंरिक रूप से इसका अर्थ है कि जिस...

Google+ Followers

Thursday, 27 February 2014

China charges Beijing scholar with fomenting separatism

China charges Beijing scholar with fomenting separatism

Three Students of Uyghur Scholar Ilham Tohti Formally Arrested


uyghur-police-june2013.gif
Chinese armed police patrol the streets of the Muslim Uyghur quarter in Xinjiang's capital Urumqi, June 29, 2013.
 AFP
Chinese authorities in Xinjiang have formally arrested three students of detained Uyghur scholar Ilham Tohti on charges of “splittism” and “revealing state secrets,” while the fate of two other students remains unknown, their instructor’s wife said Wednesday.

Authorities informed the families of Perhat Halmurat, Shohret Tursun and Abdukeyum Ablimit—who have been in custody for more than a month—by telephone on Feb. 24 of the charges against the trio and confirmed that they were placed in facilities in the Xinjiang capital Urumqi, Tohti’s wife Guzelnur said.

“Perhat and Shohret have been charged with ‘splittism,’ while Abdukeyum was charged with ‘revealing state secrets,’” Guzelnur said, citing a conversation she had with Halmurat’s parents.

“They are in Urumqi … The parents are trying to find out which prison,” she said, adding that the families of the students had been served with formal documents the day after authorities notified them of their arrests by telephone.

She said it was unclear in which detention center the three were being held.

Guzelnur informed RFA’s Uyghur Service earlier this week that her husband had been moved to the Urumqi from Beijing and formally charged with “splittism” by local authorities on Feb. 20. He faces a maximum of life in prison if convicted, according to his lawyer.

An outspoken scholar, Tohti has been a vocal critic of the Chinese government’s treatment of Uyghurs, whose homeland is in the Xinjiang Uyghur Autonomous Region and who complain of discrimination by the authorities and the country’s majority Han Chinese.

Guzelnur said that the families of the student trio are currently working to find them legal representation.

Calls to the families by RFA on Wednesday resulted in messages indicating that their phones had been disconnected.

Halmurat and Tursun had been taken into custody in the capital Beijing where they were studying at the Central University for Nationalities on Jan. 15, the same day that their professor Tohti was detained by authorities.

Ablimit, also of Central University for Nationalities, was detained in Beijing on Jan. 17.

Tursun’s family is from Urumqi and Halmurat is from Ghulja (in Chinese, Yining), the capital of Xinjiang's Ili prefecture. The location of Ablimit’s hometown was unclear.

The family of Halmurat had previously received a letter from the Urumqi police informing them of his detention in Urumqi.

Fates unknown

Guzelnur said that information about the cases of two other former students arrested on the same day as Tohti—Mutellip Imin and his girlfriend Atikem Rozi—was unknown.

She said that Imin, who once worked as a volunteer for Tohti's website, may have been transferred to a facility in southwestern Xinjiang’s Hotan (in Chinese, Hetian), where he was detained, while Rozi is believed to be held somewhere in Urumqi.

Imin, originally from Hotan, had been detained previously in Beijing in July when he tried to return to his university in Istanbul and was held for 79 days. On his release, he had his passport confiscated by the authorities, barring him from traveling to Turkey, where he previously attended university.

Rozi, who is from Aksu (in Chinese, Akesu) prefecture in western Xinjiang, was originally detained in Beijing on Jan. 15, but released by authorities that evening. She went to Tohti’s home in Beijing to meet with him the following day, but was barred from entering the building and taken into custody again.

Lawyer barred

Meanwhile, authorities in Urumqi have refused to divulge the location where Tohti is being held in detention and his lawyer, Li Fangping, has been barred by the local Public Security Bureau from meeting with him, Guzelnur told RFA.

Tohti has already been in custody for more than a month with no word to his family.

“I heard from lawyer Li Fangping who said that the police wouldn’t allow him to see my husband,” she said.

“They say Li must wait until they give him the green light,” she said, adding that the lawyer, who recently arrived in Urumqi after being notified of his client’s formal arrest, would try to meet with him again the following day.

Li told RFA earlier this week that the charge against Tohti amounted to “a very serious crime” and that “if they can make it stand up” he was most likely to receive a sentence between ten years and life in prison, though China’s criminal code also provides for the death penalty for “splittism.”

Li said he couldn't see how Tohti's activities prior to his detention could add up to such a crime and expressed optimism that they would be able to overturn the charge.

The Bureau of Public Security for Urumqi had previously said in an online statement that Tohti recruited followers through a website he founded to cause trouble, spread separatist thoughts, incite ethnic hatred, and engage in separatist activities.

It alleged that the scholar told students that Uyghurs should use violence and oppose the government as China opposed Japanese invaders during World War II.

International concern

But the U.S. State Department on Wednesday expressed concern over the charges leveled at Tohti and called for his immediate release.

“We are deeply concerned by reports that Chinese authorities have decided to formally arrest economics professor Ilham Tohti after detaining him for more than a month without access to his family or attorney,” State Department spokesperson Jen Psaki said.

“We call on Chinese authorities to release Mr. Tohti and to guarantee him the protections and freedoms to which he’s entitled under China’s international human rights commitments, including the freedom of expression.”

Uyghur human rights groups have said that Tohti’s detention is part of Beijing's broad strategy to drown the voices of the minority Uyghurs and underscores its increasing hard-line stance on dissent surrounding Xinjiang, where a sweeping security crackdown may have led to about 100 killings since April—many of them Uyghurs accused by the authorities of terrorism and separatism.

He has spoken out for better implementation of China’s regional autonomy laws in Xinjiang, where Uyghurs say they have long suffered ethnic discrimination, oppressive religious controls, and continued poverty and joblessness.

 

Read more »

Islamabad draws up national security policy to counter Islamists

Islamabad draws up national security policy to counter Islamists 
by Jibran Khan 

For the first time ever, the Cabinet will submit a national security policy to Parliament to stop violence and terrorism. The text will be examined by the two chambers before the signature of the President. The interior minister calls for "suggestions" for an effective policy. The Prime Minister warns the Taliban if the dialogue fails, the army is ready to intervene.



Islamabad ( AsiaNews) - The Pakistani government has tabled a bill in Parliament to put a stop to the violence that for too long has bloodied the country and ensure a lasting peace to the people. Over the last 14 years, four different executives and as many summits have failed to draw up a framework policy to combat violence. With yesterday's presentation of a new National Security Policy, Islamabad seems to have taken the first step in the right direction, even if the process is a lengthy one and the decree must pass the scrutiny of both Houses, before ending up on the desk of the President for ratification. For years Pakistan has been one of the hotbeds of the war on terror.  The Asian nation has recently initiated peace talks with the Taliban, who, however, have not stopped their attacks and suicide bombings.
Presenting the bill, the Interior Minister Chaudhry Nisar Ali Khan stated that it will strengthen Pakistan against internal threats and those from abroad, particularly terrorism. Meanwhile, the prime minister has formed four different committees that include leading figures of the opposition, military experts, members of intelligence and security. They have the task of working on the draft of the Policy, to enact a text that is as effective as possible.

Addressing the Parliament, minister Ali Khan pointed out that the bill is subject to debate and suggestions, while he was also hoping for a quick approval. The government has concluded its work and approved the text unanimously on February 25. It includes a series of measures (concerning counter-intelligence, intelligence, police and judiciary) designed to "eradicate terrorism" from the country. "We welcome all the stake holders- concluded the minister - to give suggestions, not only criticize but present a solution where they feel fit".

The policy of combating terrorism is divided into three parts: He further explained that the policy is divided in 3 major parts, day to day policies, strategic and operational parts. The first part deals with the day to day operations, which will be kept classified. The strategic part of the policy sets out rules for how to use various options available to the government including dialogue, military operation and use of force and negotiation simultaneously. The third part focuses on identifying threats and responding accordingly.

The main focus of the policy will be to form a structure for a joint communication between the intelligence agencies and the security agencies to strengthen information sharing. Addressing the Parliament Prime Minister Nawaz Sharif said that "the government has promoted a policy of sincere dialogue" with the Taliban , who "have not discontinued" their activities. He added that if the Islamists fail to respect the ceasefire , the army will respond in an appropriate manner .

With more than 180 million people (97 per cent Muslim), Pakistan is the sixth most populous country in the world and the second largest Muslim country after Indonesia. About 80 per cent of Muslims are Sunni, whilst Shias are about 20 per cent of the total. There are also small communities of Hindus (1.85 per cent), Christians (1.6 per cent) and Sikhs (0.04 per cent).  Violence against ethnic or religious minorities has been on rise in recent years with Shia Muslims, Hindus and Christians as the main targets.
Read more »

Thursday, 20 February 2014

Bangladesh looks to reverse under-age marriage trend

Bangladesh looks to reverse under-age marriage trend

Bangladesh looks to reverse under-age marriage trend
Bangladeshi Married Miain baby girl
Many Bangladeshi girls are forced into becoming child brides, according to recent reports by a national health research centre and the United Nations Population Fund (UNFPA).

Nearly 64 pc of Bangladeshi women in their early twenties said they were married off their 18th birthday, results of a survey published in September by the International Centre for Diarrhoeal Disease Research, Bangladesh showed. 

The survey also found while 70 pc of rural marriages in Bangladesh featured underage participants, in urban areas, 54 pc of marriages involved minors. And according to the UNFPA's 2013 "State of the World Population" report, many such child brides become pregnant while still only girls. 

In Bangladesh where one in three girls marries before her 15th birthday, about 40 pc of women between 20 and 24 reported giving birth before age 18, UNFPA said. 

Officials like Laboni Akter are confronting this problem. Akter heads Union Information and Service Centre (UISC), a one-stop government service outlet in Naryanganj, near Dhaka. Last year, she turned away a woman who requested she change her 16-year-old daughter's birth certificate. 

"She had come to the UISC to get a birth certificate which would say the girl's age was 18, instead of her actual age, so that the girl could be married off," Akter told Khabar South Asia. 

Underage marriage health risks 

Public health officials warn marrying so young can harm a girl's growth. 

"Her life cycle tends to stop," Manik Mahmud, who works for the United Nations' Development Programme (UNDP)-funded Access to Information (A2I) at the Prime Minister's Office, said. "It is extremely dangerous for the girl's physical wellbeing," he added, referring to the strain marital relations and childbirth place on the girls' bodies. 

Meanwhile, the Bangladeshi government is taking steps to end childhood marriages. 

"The mandatory birth registration process is helping," said K.M. Morshed, assistant country director for the United Nations Development Programme. He noted parents can no longer lie about their daughter's age on documents. 

In addition, public awareness campaigns and moves to toughen Bangladesh's child marriage legislation are helping, Morshed told Khabar. 

Under the law prohibiting minors from entering a marriage contract, perpetrators responsible face only one month in prison or a Tk. 1,000 ($13) fine.
Read more »

Wednesday, 19 February 2014

Is Arvind Kejriwal CIA agent?

Read more »

कैसे और क्यों बनाया अमेरिका ने केजरीवाल को सीआईए एजेंट

कैसे और क्यों बनाया अमेरिका ने केजरीवाल को सीआईए एजेंट
द्वारा-- निर्भय कुमार 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता वाली एनजीओ गिरोह ‘राष्ट्रीय सलाहकार परिषद (एनएसी)’ ने घोर ‘सांप्रदायिक और लक्ष्य केंद्रित हिंसा निवारण अधिनियम’ का ड्राफ्ट तैयार किया है। एनएसी की एक प्रमुख सदस्य अरुणा राय के साथ मिलकर अरविंद केजरीवाल ने सरकारी नौकरी में रहते हुए एनजीओ की कार्यप्रणाली समझी और फिर ‘परिवर्तन’ नामक एनजीओ से जुड़ गए। अरविंद लंबे अरसे तक राजस्व विभाग से छुटटी लेकर भी सरकारी तनख्वाह ले रहे थे और एनजीओ से भी वेतन उठा रहे थे, जो ‘श्रीमान ईमानदार’ को कानूनन भ्रष्‍टाचारी की श्रेणी में रखता है। वर्ष 2006 में ‘परिवर्तन’ में काम करने के दौरान ही उन्हें अमेरिकी ‘फोर्ड फाउंडेशन’ व ‘रॉकफेलर ब्रदर्स फंड’ ने ‘उभरते नेतृत्व’ के लिए ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ पुरस्कार दिया, जबकि उस वक्त तक अरविंद ने ऐसा कोई काम नहीं किया था, जिसे उभरते हुए नेतृत्व का प्रतीक माना जा सके। इसके बाद अरविंद अपने पुराने सहयोगी मनीष सिसोदिया के एनजीओ ‘कबीर’ से जुड़ गए, जिसका गठन इन दोनों ने मिलकर वर्ष 2005 में किया था।
अरविंद को समझने से पहले ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ को समझ लीजिए!
अमेरिकी नीतियों को पूरी दुनिया में लागू कराने के लिए अमेरिकी खुफिया ब्यूरो ‘सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए)’ अमेरिका की मशहूर कार निर्माता कंपनी ‘फोर्ड’ द्वारा संचालित ‘फोर्ड फाउंडेशन’ एवं कई अन्य फंडिंग एजेंसी के साथ मिलकर काम करती रही है। 1953 में फिलिपिंस की पूरी राजनीति व चुनाव को सीआईए ने अपने कब्जे में ले लिया था। भारतीय अरविंद केजरीवाल की ही तरह सीआईए ने उस वक्त फिलिपिंस में ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ को खड़ा किया था और उन्हें फिलिपिंस का राष्ट्रपति बनवा दिया था। अरविंद केजरीवाल की ही तरह ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ का भी पूर्व का कोई राजनैतिक इतिहास नहीं था। ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ के जरिए फिलिपिंस की राजनीति को पूरी तरह से अपने कब्जे में करने के लिए अमेरिका ने उस जमाने में प्रचार के जरिए उनका राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय ‘छवि निर्माण’ से लेकर उन्हें ‘नॉसियोनालिस्टा पार्टी’ का उम्मीदवार बनाने और चुनाव जिताने के लिए करीब 5 मिलियन डॉलर खर्च किया था। तत्कालीन सीआईए प्रमुख एलन डॉउल्स की निगरानी में इस पूरी योजना को उस समय के सीआईए अधिकारी ‘एडवर्ड लैंडस्ले’ ने अंजाम दिया था। इसकी पुष्टि 1972 में एडवर्ड लैंडस्ले द्वारा दिए गए एक साक्षात्कार में हुई।

ठीक अरविंद केजरीवाल की ही तरह रेमॉन मेग्सेसाय की ईमानदार छवि को गढ़ा गया और ‘डर्टी ट्रिक्स’ के जरिए विरोधी नेता और फिलिपिंस के तत्कालीन राष्ट्रपति ‘क्वायरिनो’ की छवि धूमिल की गई। यह प्रचारित किया गया कि क्वायरिनो भाषण देने से पहले अपना आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए ड्रग का उपयोग करते हैं। रेमॉन मेग्सेसाय की ‘गढ़ी गई ईमानदार छवि’ और क्वायरिनो की ‘कुप्रचारित पतित छवि’ ने रेमॉन मेग्सेसाय को दो तिहाई बहुमत से जीत दिला दी और अमेरिका अपने मकसद में कामयाब रहा था। भारत में इस समय अरविंद केजरीवाल बनाम अन्य राजनीतिज्ञों की बीच अंतर दर्शाने के लिए छवि गढ़ने का जो प्रचारित खेल चल रहा है वह अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए द्वारा अपनाए गए तरीके और प्रचार से बहुत कुछ मेल खाता है।
उन्हीं ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ के नाम पर एशिया में अमेरिकी नीतियों के पक्ष में माहौल बनाने वालों, वॉलेंटियर तैयार करने वालों, अपने देश की नीतियों को अमेरिकी हित में प्रभावित करने वालों, भ्रष्‍टाचार के नाम पर देश की चुनी हुई सरकारों को अस्थिर करने वालों को ‘फोर्ड फाउंडेशन’ व ‘रॉकफेलर ब्रदर्स फंड’ मिलकर अप्रैल 1957 से ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ अवार्ड प्रदान कर रही है। ‘आम आदमी पार्टी’ के संयोजक अरविंद केजरीवाल और उनके साथी व ‘आम आदमी पार्टी’ के विधायक मनीष सिसोदिया को भी वही ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ पुरस्कार मिला है और सीआईए के लिए फंडिंग करने वाली उसी ‘फोर्ड फाउंडेशन’ के फंड से उनका एनजीओ ‘कबीर’ और ‘इंडिया अगेंस्ट करप्शन’ मूवमेंट खड़ा हुआ है।
भारत में राजनैतिक अस्थिरता के लिए एनजीओ और मीडिया में विदेशी फंडिंग!
‘फोर्ड फाउंडेशन’ के एक अधिकारी स्टीवन सॉलनिक के मुताबिक ‘‘कबीर को फोर्ड फाउंडेशन की ओर से वर्ष 2005 में 1 लाख 72 हजार डॉलर एवं वर्ष 2008 में 1 लाख 97 हजार अमेरिकी डॉलर का फंड दिया गया।’’ यही नहीं, ‘कबीर’ को ‘डच दूतावास’ से भी मोटी रकम फंड के रूप में मिली। अमेरिका के साथ मिलकर नीदरलैंड भी अपने दूतावासों के जरिए दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में अमेरिकी-यूरोपीय हस्तक्षेप बढ़ाने के लिए वहां की गैर सरकारी संस्थाओं यानी एनजीओ को जबरदस्त फंडिंग करती है।
अंग्रेजी अखबार ‘पॉयनियर’ में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक डच यानी नीदरलैंड दूतावास अपनी ही एक एनजीओ ‘हिवोस’ के जरिए नरेंद्र मोदी की गुजरात सरकार को अस्थिर करने में लगे विभिन्‍न भारतीय एनजीओ को अप्रैल 2008 से 2012 के बीच लगभग 13 लाख यूरो, मतलब करीब सवा नौ करोड़ रुपए की फंडिंग कर चुकी है। इसमें एक अरविंद केजरीवाल का एनजीओ भी शामिल है। ‘हिवोस’ को फोर्ड फाउंडेशन भी फंडिंग करती है।
डच एनजीओ ‘हिवोस’ दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में केवल उन्हीं एनजीओ को फंडिंग करती है,जो अपने देश व वहां के राज्यों में अमेरिका व यूरोप के हित में राजनैतिक अस्थिरता पैदा करने की क्षमता को साबित करते हैं। इसके लिए मीडिया हाउस को भी जबरदस्त फंडिंग की जाती है। एशियाई देशों की मीडिया को फंडिंग करने के लिए अमेरिका व यूरोपीय देशों ने ‘पनोस’ नामक संस्था का गठन कर रखा है। दक्षिण एशिया में इस समय ‘पनोस’ के करीब आधा दर्जन कार्यालय काम कर रहे हैं। ‘पनोस’ में भी फोर्ड फाउंडेशन का पैसा आता है। माना जा रहा है कि अरविंद केजरीवाल के मीडिया उभार के पीछे इसी ‘पनोस’ के जरिए ‘फोर्ड फाउंडेशन’ की फंडिंग काम कर रही है। ‘सीएनएन-आईबीएन’ व ‘आईबीएन-7’ चैनल के प्रधान संपादक राजदीप सरदेसाई ‘पॉपुलेशन काउंसिल’ नामक संस्था के सदस्य हैं, जिसकी फंडिंग अमेरिका की वही ‘रॉकफेलर ब्रदर्स’ करती है जो ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ पुरस्कार के लिए ‘फोर्ड फाउंडेशन’ के साथ मिलकर फंडिंग करती है।
माना जा रहा है कि ‘पनोस’ और ‘रॉकफेलर ब्रदर्स फंड’ की फंडिंग का ही यह कमाल है कि राजदीप सरदेसाई का अंग्रेजी चैनल ‘सीएनएन-आईबीएन’ व हिंदी चैनल ‘आईबीएन-7’ न केवल अरविंद केजरीवाल को ‘गढ़ने’ में सबसे आगे रहे हैं, बल्कि 21 दिसंबर 2013 को ‘इंडियन ऑफ द ईयर’ का पुरस्कार भी उसे प्रदान किया है। ‘इंडियन ऑफ द ईयर’ के पुरस्कार की प्रयोजक कंपनी ‘जीएमआर’ भ्रष्‍टाचार में घिरी है।
‘जीएमआर’ के स्वामित्व वाली ‘डायल’ कंपनी ने देश की राजधानी दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा विकसित करने के लिए यूपीए सरकार से महज 100 रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से जमीन हासिल किया है। भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ‘सीएजी’ ने 17 अगस्त 2012 को संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में कहा था कि जीएमआर को सस्ते दर पर दी गई जमीन के कारण सरकारी खजाने को 1 लाख 63 हजार करोड़ रुपए का चूना लगा है। इतना ही नहीं, रिश्वत देकर अवैध तरीके से ठेका हासिल करने के कारण ही मालदीव सरकार ने अपने देश में निर्मित हो रहे माले हवाई अड्डा का ठेका जीएमआर से छीन लिया था। सिंगापुर की अदालत ने जीएमआर कंपनी को भ्रष्‍टाचार में शामिल होने का दोषी करार दिया था। तात्पर्य यह है कि अमेरिकी-यूरोपीय फंड, भारतीय मीडिया और यहां यूपीए सरकार के साथ घोटाले में साझीदार कारपोरेट कंपनियों ने मिलकर अरविंद केजरीवाल को ‘गढ़ा’ है, जिसका मकसद आगे पढ़ने पर आपको पता चलेगा।
‘जनलोकपाल आंदोलन’ से ‘आम आदमी पार्टी’ तक का शातिर सफर!
आरोप है कि विदेशी पुरस्कार और फंडिंग हासिल करने के बाद अमेरिकी हित में अरविंद केजरीवाल व मनीष सिसोदिया ने इस देश को अस्थिर करने के लिए ‘इंडिया अगेंस्ट करप्शन’ का नारा देते हुए वर्ष 2011 में ‘जनलोकपाल आंदोलन’ की रूप रेखा खिंची। इसके लिए सबसे पहले बाबा रामदेव का उपयोग किया गया, लेकिन रामदेव इन सभी की मंशाओं को थोड़ा-थोड़ा समझ गए थे। स्वामी रामदेव के मना करने पर उनके मंच का उपयोग करते हुए महाराष्ट्र के सीधे-साधे, लेकिन भ्रष्‍टाचार के विरुद्ध कई मुहीम में सफलता हासिल करने वाले अन्ना हजारे को अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली से उत्तर भारत में ‘लॉंच’ कर दिया। अन्ना हजारे को अरिवंद केजरीवाल की मंशा समझने में काफी वक्त लगा, लेकिन तब तक जनलोकपाल आंदोलन के बहाने अरविंद ‘कांग्रेस पार्टी व विदेशी फंडेड मीडिया’ के जरिए देश में प्रमुख चेहरा बन चुके थे। जनलोकपाल आंदोलन के दौरान जो मीडिया अन्ना-अन्ना की गाथा गा रही थी, ‘आम आदमी पार्टी’ के गठन के बाद वही मीडिया अन्ना को असफल साबित करने और अरविंद केजरीवाल के महिमा मंडन में जुट गई।
विदेशी फंडिंग तो अंदरूनी जानकारी है, लेकिन उस दौर से लेकर आज तक अरविंद केजरीवाल को प्रमोट करने वाली हर मीडिया संस्थान और पत्रकारों के चेहरे को गौर से देखिए। इनमें से अधिकांश वो हैं, जो कांग्रेस नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के द्वारा अंजाम दिए गए 1 लाख 76 हजार करोड़ के 2जी स्पेक्ट्रम, 1 लाख 86 हजार करोड़ के कोल ब्लॉक आवंटन, 70 हजार करोड़ के कॉमनवेल्थ गेम्स और ‘कैश फॉर वोट’ घोटाले में समान रूप से भागीदार हैं।
आगे बढ़ते हैं…! अन्ना जब अरविंद और मनीष सिसोदिया के पीछे की विदेशी फंडिंग और उनकी छुपी हुई मंशा से परिचित हुए तो वह अलग हो गए, लेकिन इसी अन्ना के कंधे पर पैर रखकर अरविंद अपनी ‘आम आदमी पार्टी’ खड़ा करने में सफल रहे। जनलोकपाल आंदोलन के पीछे ‘फोर्ड फाउंडेशन’ के फंड को लेकर जब सवाल उठने लगा तो अरविंद-मनीष के आग्रह व न्यूयॉर्क स्थित अपने मुख्यालय के आदेश पर फोर्ड फाउंडेशन ने अपनी वेबसाइट से ‘कबीर’ व उसकी फंडिंग का पूरा ब्यौरा ही हटा दिया। लेकिन उससे पहले अन्ना आंदोलन के दौरान 31 अगस्त 2011 में ही फोर्ड के प्रतिनिधि स्टीवेन सॉलनिक ने ‘बिजनस स्टैंडर’ अखबार में एक साक्षात्कार दिया था, जिसमें यह कबूल किया था कि फोर्ड फाउंडेशन ने ‘कबीर’ को दो बार में 3 लाख 69 हजार डॉलर की फंडिंग की है। स्टीवेन सॉलनिक के इस साक्षात्कार के कारण यह मामला पूरी तरह से दबने से बच गया और अरविंद का चेहरा कम संख्या में ही सही, लेकिन लोगों के सामने आ गया।
सूचना के मुताबिक अमेरिका की एक अन्य संस्था ‘आवाज’ की ओर से भी अरविंद केजरीवाल को जनलोकपाल आंदोलन के लिए फंड उपलब्ध कराया गया था और इसी ‘आवाज’ ने दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए भी अरविंद केजरीवाल की ‘आम आदमी पार्टी’ को फंड उपलब्ध कराया। सीरिया, इजिप्ट, लीबिया आदि देश में सरकार को अस्थिर करने के लिए अमेरिका की इसी ‘आवाज’ संस्था ने वहां के एनजीओ, ट्रस्ट व बुद्धिजीवियों को जमकर फंडिंग की थी। इससे इस विवाद को बल मिलता है कि अमेरिका के हित में हर देश की पॉलिसी को प्रभावित करने के लिए अमेरिकी संस्था जिस ‘फंडिंग का खेल’ खेल खेलती आई हैं, भारत में अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और ‘आम आदमी पार्टी’ उसी की देन हैं।
सुप्रीम कोर्ट के वकील एम.एल.शर्मा ने अरविंद केजरीवाल व मनीष सिसोदिया के एनजीओ व उनकी ‘आम आदमी पार्टी’ में चुनावी चंदे के रूप में आए विदेशी फंडिंग की पूरी जांच के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल कर रखी है। अदालत ने इसकी जांच का निर्देश दे रखा है, लेकिन केंद्रीय गृहमंत्रालय इसकी जांच कराने के प्रति उदासीनता बरत रही है, जो केंद्र सरकार को संदेह के दायरे में खड़ा करता है। वकील एम.एल.शर्मा कहते हैं कि ‘फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट-2010’ के मुताबिक विदेशी धन पाने के लिए भारत सरकार की अनुमति लेना आवश्यक है। यही नहीं, उस राशि को खर्च करने के लिए निर्धारित मानकों का पालन करना भी जरूरी है। कोई भी विदेशी देश चुनावी चंदे या फंड के जरिए भारत की संप्रभुता व राजनैतिक गतिविधियों को प्रभावित नहीं कर सके, इसलिए यह कानूनी प्रावधान किया गया था, लेकिन अरविंद केजरीवाल व उनकी टीम ने इसका पूरी तरह से उल्लंघन किया है। बाबा रामदेव के खिलाफ एक ही दिन में 80 से अधिक मुकदमे दर्ज करने वाली कांग्रेस सरकार की उदासीनता दर्शाती है कि अरविंद केजरीवाल को वह अपने राजनैतिक फायदे के लिए प्रोत्साहित कर रही है।
अमेरिकी ‘कल्चरल कोल्ड वार’ के हथियार हैं अरविंद केजरीवाल!
फंडिंग के जरिए पूरी दुनिया में राजनैतिक अस्थिरता पैदा करने की अमेरिका व उसकी खुफिया एजेंसी ‘सीआईए’ की नीति को ‘कल्चरल कोल्ड वार’ का नाम दिया गया है। इसमें किसी देश की राजनीति, संस्कृति व उसके लोकतंत्र को अपने वित्त व पुरस्कार पोषित समूह, एनजीओ, ट्रस्ट, सरकार में बैठे जनप्रतिनिधि, मीडिया और वामपंथी बुद्धिजीवियों के जरिए पूरी तरह से प्रभावित करने का प्रयास किया जाता है। अरविंद केजरीवाल ने ‘सेक्यूलरिज्म’ के नाम पर इसकी पहली झलक अन्ना के मंच से ‘भारत माता’ की तस्वीर को हटाकर दे दिया था। चूंकि इस देश में भारत माता के अपमान को ‘सेक्यूलरिज्म का फैशनेबल बुर्का’ समझा जाता है, इसलिए वामपंथी बुद्धिजीवी व मीडिया बिरादरी इसे अरविंद केजरीवाल की धर्मनिरपेक्षता साबित करने में सफल रही।
एक बार जो धर्मनिरपेक्षता का गंदा खेल शुरू हुआ तो फिर चल निकला और ‘आम आदमी पार्टी’ के नेता प्रशांत भूषण ने तत्काल कश्मीर में जनमत संग्रह कराने का सुझाव दे दिया। प्रशांत भूषण यहीं नहीं रुके, उन्होंने संसद हमले के मुख्य दोषी अफजल गुरु की फांसी का विरोध करते हुए यह तक कह दिया कि इससे भारत का असली चेहरा उजागर हो गया है। जैसे वह खुद भारत नहीं, बल्कि किसी दूसरे देश के नागरिक हों?
प्रशांत भूषण लगातार भारत विरोधी बयान देते चले गए और मीडिया व वामपंथी बुद्धिजीवी उनकी आम आदमी पार्टी को ‘क्रांतिकारी सेक्यूलर दल’ के रूप में प्रचारित करने लगी। प्रशांत भूषण को हौसला मिला और उन्होंने केंद्र सरकार से कश्मीर में लागू एएफएसपीए कानून को हटाने की मांग करते हुए कह दिया कि सेना ने कश्मीरियों को इस कानून के जरिए दबा रखा है। इसके उलट हमारी सेना यह कह चुकी है कि यदि इस कानून को हटाया जाता है तो अलगाववादी कश्मीर में हावी हो जाएंगे।
अमेरिका का हित इसमें है कि कश्मीर अस्थिर रहे या पूरी तरह से पाकिस्तान के पाले में चला जाए ताकि अमेरिका यहां अपना सैन्य व निगरानी केंद्र स्थापित कर सके। यहां से दक्षिण-पश्चिम व दक्षिण-पूर्वी एशिया व चीन पर नजर रखने में उसे आसानी होगी। आम आदमी पार्टी के नेता प्रशांत भूषण अपनी झूठी मानवाधिकारवादी छवि व वकालत के जरिए इसकी कोशिश पहले से ही करते रहे हैं और अब जब उनकी ‘अपनी राजनैतिक पार्टी’ हो गई है तो वह इसे राजनैतिक रूप से अंजाम देने में जुटे हैं। यह एक तरह से ‘लिटमस टेस्ट’ था, जिसके जरिए आम आदमी पार्टी ‘ईमानदारी’ और ‘छद्म धर्मनिरपेक्षता’ का ‘कॉकटेल’ तैयार कर रही थी।
8 दिसंबर 2013 को दिल्ली की 70 सदस्यीय विधानसभा चुनाव में 28 सीटें जीतने के बाद अपनी सरकार बनाने के लिए अरविंद केजरीवाल व उनकी पार्टी द्वारा आम जनता को अधिकार देने के नाम पर जनमत संग्रह का जो नाटक खेला गया, वह काफी हद तक इस ‘कॉकटेल’ का ही परीक्षण है। सवाल उठने लगा है कि यदि देश में आम आदमी पार्टी की सरकार बन जाए और वह कश्मीर में जनमत संग्रह कराते हुए उसे पाकिस्तान के पक्ष में बता दे तो फिर क्या होगा?
आखिर जनमत संग्रह के नाम पर उनके ‘एसएमएस कैंपेन’ की पारदर्शिता ही कितनी है? अन्ना हजारे भी एसएमएस कार्ड के नाम पर अरविंद केजरीवाल व उनकी पार्टी द्वारा की गई धोखाधड़ी का मामला उठा चुके हैं। दिल्ली के पटियाला हाउस अदालत में अन्ना व अरविंद को पक्षकार बनाते हुए एसएमएस कार्ड के नाम पर 100 करोड़ के घोटाले का एक मुकदमा दर्ज है। इस पर अन्ना ने कहा, ‘‘मैं इससे दुखी हूं, क्योंकि मेरे नाम पर अरविंद के द्वारा किए गए इस कार्य का कुछ भी पता नहीं है और मुझे अदालत में घसीट दिया गया है, जो मेरे लिए बेहद शर्म की बात है।’’
प्रशांत भूषण, अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और उनके ‘पंजीकृत आम आदमी’ ने जब देखा कि ‘भारत माता’ के अपमान व कश्मीर को भारत से अलग करने जैसे वक्तव्य पर ‘मीडिया-बुद्धिजीवी समर्थन का खेल’ शुरू हो चुका है तो उन्होंने अपनी ईमानदारी की चासनी में कांग्रेस के छद्म सेक्यूलरवाद को मिला लिया। उनके बयान देखिए, प्रशांत भूषण ने कहा, ‘इस देश में हिंदू आतंकवाद चरम पर है’, तो प्रशांत के सुर में सुर मिलाते हुए अरविंद ने कहा कि ‘बाटला हाउस एनकाउंटर फर्जी था और उसमें मारे गए मुस्लिम युवा निर्दोष थे।’ इससे दो कदम आगे बढ़ते हुए अरविंद केजरीवाल उत्तरप्रदेश के बरेली में दंगा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार हो चुके तौकीर रजा और जामा मस्जिद के मौलाना इमाम बुखारी से मिलकर समर्थन देने की मांग की।
याद रखिए, यही इमाम बुखरी हैं, जो खुले आम दिल्ली पुलिस को चुनौती देते हुए कह चुके हैं कि ‘हां, मैं पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का एजेंट हूं, यदि हिम्मत है तो मुझे गिरफ्तार करके दिखाओ।’ उन पर कई आपराधिक मामले दर्ज हैं, अदालत ने उन्हें भगोड़ा घोषित कर रखा है लेकिन दिल्ली पुलिस की इतनी हिम्मत नहीं है कि वह जामा मस्जिद जाकर उन्हें गिरफ्तार कर सके। वहीं तौकीर रजा का पुराना सांप्रदायिक इतिहास है। वह समय-समय पर कांग्रेस और मुलायम सिंह यादव की समाजवादी पार्टी के पक्ष में मुसलमानों के लिए फतवा जारी करते रहे हैं। इतना ही नहीं, वह मशहूर बंग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन की हत्या करने वालों को ईनाम देने जैसा घोर अमानवीय फतवा भी जारी कर चुके हैं।
नरेंद्र मोदी के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए फेंका गया ‘आखिरी पत्ता’ हैं अरविंद!
दरअसल विदेश में अमेरिका, सउदी अरब व पाकिस्तान और भारत में कांग्रेस व क्षेत्रीय पाटियों की पूरी कोशिश नरेंद्र मोदी के बढ़ते प्रभाव को रोकने की है। मोदी न अमेरिका के हित में हैं, न सउदी अरब व पाकिस्तान के हित में और न ही कांग्रेस पार्टी व धर्मनिरेपक्षता का ढोंग करने वाली क्षेत्रीय पार्टियों के हित में। मोदी के आते ही अमेरिका की एशिया केंद्रित पूरी विदेश, आर्थिक व रक्षा नीति तो प्रभावित होगी ही, देश के अंदर लूट मचाने में दशकों से जुटी हुई पार्टियों व नेताओं के लिए भी जेल यात्रा का माहौल बन जाएगा। इसलिए उसी भ्रष्‍टाचार को रोकने के नाम पर जनता का भावनात्मक दोहन करते हुए ईमानदारी की स्वनिर्मित धरातल पर ‘आम आदमी पार्टी’ का निर्माण कराया गया है।
दिल्ली में भ्रष्‍टाचार और कुशासन में फंसी कांग्रेस की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की 15 वर्षीय सत्ता के विरोध में उत्पन्न लहर को भाजपा के पास सीधे जाने से रोककर और फिर उसी कांग्रेस पार्टी के सहयोग से ‘आम आदमी पार्टी’ की सरकार बनाने का ड्रामा रचकर अरविंद केजरीवाल ने भाजपा को रोकने की अपनी क्षमता को दर्शा दिया है। अरविंद केजरीवाल द्वारा सरकार बनाने की हामी भरते ही केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा, ‘‘भाजपा के पास 32 सीटें थी, लेकिन वो बहुमत के लिए 4 सीटों का जुगाड़ नहीं कर पाई। हमारे पास केवल 8 सीटें थीं, लेकिन हमने 28 सीटों का जुगाड़ कर लिया और सरकार भी बना ली।’’
कपिल सिब्बल का यह बयान भाजपा को रोकने के लिए अरविंद केजरीवाल और उनकी ‘आम आदमी पार्टी’ को खड़ा करने में कांग्रेस की छुपी हुई भूमिका को उजागर कर देता है। वैसे भी अरविंद केजरीवाल और शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित एनजीओ के लिए साथ काम कर चुके हैं। तभी तो दिसंबर-2011 में अन्ना आंदोलन को समाप्त कराने की जिम्मेवारी यूपीए सरकार ने संदीप दीक्षित को सौंपी थी। ‘फोर्ड फाउंडेशन’ ने अरविंद व मनीष सिसोदिया के एनजीओ को 3 लाख 69 हजार डॉलर तो संदीप दीक्षित के एनजीओ को 6 लाख 50 हजार डॉलर का फंड उपलब्ध कराया है। शुरू-शुरू में अरविंद केजरीवाल को कुछ मीडिया हाउस ने शीला-संदीप का ‘ब्रेन चाइल्ड’ बताया भी था, लेकिन यूपीए सरकार का इशारा पाते ही इस पूरे मामले पर खामोशी अख्तियार कर ली गई।
‘आम आदमी पार्टी’ व उसके नेता अरविंद केजरीवाल की पूरी मंशा को इस पार्टी के संस्थापक सदस्य व प्रशांत भूषण के पिता शांति भूषण ने ‘मेल टुडे’ अखबार में लिखे अपने एक लेख में जाहिर भी कर दिया था, लेकिन बाद में प्रशांत-अरविंद के दबाव के कारण उन्होंने अपने ही लेख से पल्ला झाड़ लिया और ‘मेल टुडे’ अखबार के खिलाफ मुकदमा कर दिया। आगे भी.......
अरविंद को समझने से पहले ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ को समझ लीजिए!अमेरिकी नीतियों को पूरी दुनिया में लागू कराने के लिए अमेरिकी खुफिया ब्यूरो ‘सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए)’ अमेरिका की मशहूर कार निर्माता कंपनी ‘फोर्ड’ द्वारा संचालित ‘फोर्ड फाउंडेशन’ एवं कई अन्य फंडिंग एजेंसी के साथ मिलकर काम करती रही है। 1953 में फिलिपिंस की पूरी राजनीति व चुनाव को सीआईए ने अपने कब्जे में ले लिया था। भारतीय अरविंद केजरीवाल की ही तरह सीआईए ने उस वक्त फिलिपिंस में ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ को खड़ा किया था और उन्हें फिलिपिंस का राष्ट्रपति बनवा दिया था। अरविंद केजरीवाल की ही तरह ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ का भी पूर्व का कोई राजनैतिक इतिहास नहीं था। ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ के जरिए फिलिपिंस की राजनीति को पूरी तरह से अपने कब्जे में करने के लिए अमेरिका ने उस जमाने में प्रचार के जरिए उनका राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय ‘छवि निर्माण’ से लेकर उन्हें ‘नॉसियोनालिस्टा पार्टी’ का उम्मीदवार बनाने और चुनाव जिताने के लिए करीब 5 मिलियन डॉलर खर्च किया था। तत्कालीन सीआईए प्रमुख एलन डॉउल्स की निगरानी में इस पूरी योजना को उस समय के सीआईए अधिकारी ‘एडवर्ड लैंडस्ले’ ने अंजाम दिया था। इसकी पुष्टि 1972 में एडवर्ड लैंडस्ले द्वारा दिए गए एक साक्षात्कार में हुई।
ठीक अरविंद केजरीवाल की ही तरह रेमॉन मेग्सेसाय की ईमानदार छवि को गढ़ा गया और ‘डर्टी ट्रिक्स’ के जरिए विरोधी नेता और फिलिपिंस के तत्कालीन राष्ट्रपति ‘क्वायरिनो’ की छवि धूमिल की गई। यह प्रचारित किया गया कि क्वायरिनो भाषण देने से पहले अपना आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए ड्रग का उपयोग करते हैं। रेमॉन मेग्सेसाय की ‘गढ़ी गई ईमानदार छवि’ और क्वायरिनो की ‘कुप्रचारित पतित छवि’ ने रेमॉन मेग्सेसाय को दो तिहाई बहुमत से जीत दिला दी और अमेरिका अपने मकसद में कामयाब रहा था। भारत में इस समय अरविंद केजरीवाल बनाम अन्य राजनीतिज्ञों की बीच अंतर दर्शाने के लिए छवि गढ़ने का जो प्रचारित खेल चल रहा है वह अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए द्वारा अपनाए गए तरीके और प्रचार से बहुत कुछ मेल खाता है।उन्हीं ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ के नाम पर एशिया में अमेरिकी नीतियों के पक्ष में माहौल बनाने वालों, वॉलेंटियर तैयार करने वालों, अपने देश की नीतियों को अमेरिकी हित में प्रभावित करने वालों, भ्रष्‍टाचार के नाम पर देश की चुनी हुई सरकारों को अस्थिर करने वालों को ‘फोर्ड फाउंडेशन’ व ‘रॉकफेलर ब्रदर्स फंड’ मिलकर अप्रैल 1957 से ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ अवार्ड प्रदान कर रही है। ‘आम आदमी पार्टी’ के संयोजक अरविंद केजरीवाल और उनके साथी व ‘आम आदमी पार्टी’ के विधायक मनीष सिसोदिया को भी वही ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ पुरस्कार मिला है और सीआईए के लिए फंडिंग करने वाली उसी ‘फोर्ड फाउंडेशन’ के फंड से उनका एनजीओ ‘कबीर’ और ‘इंडिया अगेंस्ट करप्शन’ मूवमेंट खड़ा हुआ है।भारत में राजनैतिक अस्थिरता के लिए एनजीओ और मीडिया में विदेशी फंडिंग!‘फोर्ड फाउंडेशन’ के एक अधिकारी स्टीवन सॉलनिक के मुताबिक ‘‘कबीर को फोर्ड फाउंडेशन की ओर से वर्ष 2005 में 1 लाख 72 हजार डॉलर एवं वर्ष 2008 में 1 लाख 97 हजार अमेरिकी डॉलर का फंड दिया गया।’’ यही नहीं, ‘कबीर’ को ‘डच दूतावास’ से भी मोटी रकम फंड के रूप में मिली। अमेरिका के साथ मिलकर नीदरलैंड भी अपने दूतावासों के जरिए दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में अमेरिकी-यूरोपीय हस्तक्षेप बढ़ाने के लिए वहां की गैर सरकारी संस्थाओं यानी एनजीओ को जबरदस्त फंडिंग करती है।अंग्रेजी अखबार ‘पॉयनियर’ में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक डच यानी नीदरलैंड दूतावास अपनी ही एक एनजीओ ‘हिवोस’ के जरिए नरेंद्र मोदी की गुजरात सरकार को अस्थिर करने में लगे विभिन्‍न भारतीय एनजीओ को अप्रैल 2008 से 2012 के बीच लगभग 13 लाख यूरो, मतलब करीब सवा नौ करोड़ रुपए की फंडिंग कर चुकी है। इसमें एक अरविंद केजरीवाल का एनजीओ भी शामिल है। ‘हिवोस’ को फोर्ड फाउंडेशन भी फंडिंग करती है।डच एनजीओ ‘हिवोस’ दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में केवल उन्हीं एनजीओ को फंडिंग करती है,जो अपने देश व वहां के राज्यों में अमेरिका व यूरोप के हित में राजनैतिक अस्थिरता पैदा करने की क्षमता को साबित करते हैं। इसके लिए मीडिया हाउस को भी जबरदस्त फंडिंग की जाती है। एशियाई देशों की मीडिया को फंडिंग करने के लिए अमेरिका व यूरोपीय देशों ने ‘पनोस’ नामक संस्था का गठन कर रखा है। दक्षिण एशिया में इस समय ‘पनोस’ के करीब आधा दर्जन कार्यालय काम कर रहे हैं। ‘पनोस’ में भी फोर्ड फाउंडेशन का पैसा आता है। माना जा रहा है कि अरविंद केजरीवाल के मीडिया उभार के पीछे इसी ‘पनोस’ के जरिए ‘फोर्ड फाउंडेशन’ की फंडिंग काम कर रही है। ‘सीएनएन-आईबीएन’ व ‘आईबीएन-7’ चैनल के प्रधान संपादक राजदीप सरदेसाई ‘पॉपुलेशन काउंसिल’ नामक संस्था के सदस्य हैं, जिसकी फंडिंग अमेरिका की वही ‘रॉकफेलर ब्रदर्स’ करती है जो ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ पुरस्कार के लिए ‘फोर्ड फाउंडेशन’ के साथ मिलकर फंडिंग करती है।माना जा रहा है कि ‘पनोस’ और ‘रॉकफेलर ब्रदर्स फंड’ की फंडिंग का ही यह कमाल है कि राजदीप सरदेसाई का अंग्रेजी चैनल ‘सीएनएन-आईबीएन’ व हिंदी चैनल ‘आईबीएन-7’ न केवल अरविंद केजरीवाल को ‘गढ़ने’ में सबसे आगे रहे हैं, बल्कि 21 दिसंबर 2013 को ‘इंडियन ऑफ द ईयर’ का पुरस्कार भी उसे प्रदान किया है। ‘इंडियन ऑफ द ईयर’ के पुरस्कार की प्रयोजक कंपनी ‘जीएमआर’ भ्रष्‍टाचार में घिरी है।‘जीएमआर’ के स्वामित्व वाली ‘डायल’ कंपनी ने देश की राजधानी दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा विकसित करने के लिए यूपीए सरकार से महज 100 रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से जमीन हासिल किया है। भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ‘सीएजी’ ने 17 अगस्त 2012 को संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में कहा था कि जीएमआर को सस्ते दर पर दी गई जमीन के कारण सरकारी खजाने को 1 लाख 63 हजार करोड़ रुपए का चूना लगा है। इतना ही नहीं, रिश्वत देकर अवैध तरीके से ठेका हासिल करने के कारण ही मालदीव सरकार ने अपने देश में निर्मित हो रहे माले हवाई अड्डा का ठेका जीएमआर से छीन लिया था। सिंगापुर की अदालत ने जीएमआर कंपनी को भ्रष्‍टाचार में शामिल होने का दोषी करार दिया था। तात्पर्य यह है कि अमेरिकी-यूरोपीय फंड, भारतीय मीडिया और यहां यूपीए सरकार के साथ घोटाले में साझीदार कारपोरेट कंपनियों ने मिलकर अरविंद केजरीवाल को ‘गढ़ा’ है, जिसका मकसद आगे पढ़ने पर आपको पता चलेगा।‘जनलोकपाल आंदोलन’ से ‘आम आदमी पार्टी’ तक का शातिर सफर!आरोप है कि विदेशी पुरस्कार और फंडिंग हासिल करने के बाद अमेरिकी हित में अरविंद केजरीवाल व मनीष सिसोदिया ने इस देश को अस्थिर करने के लिए ‘इंडिया अगेंस्ट करप्शन’ का नारा देते हुए वर्ष 2011 में ‘जनलोकपाल आंदोलन’ की रूप रेखा खिंची। इसके लिए सबसे पहले बाबा रामदेव का उपयोग किया गया, लेकिन रामदेव इन सभी की मंशाओं को थोड़ा-थोड़ा समझ गए थे। स्वामी रामदेव के मना करने पर उनके मंच का उपयोग करते हुए महाराष्ट्र के सीधे-साधे, लेकिन भ्रष्‍टाचार के विरुद्ध कई मुहीम में सफलता हासिल करने वाले अन्ना हजारे को अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली से उत्तर भारत में ‘लॉंच’ कर दिया। अन्ना हजारे को अरिवंद केजरीवाल की मंशा समझने में काफी वक्त लगा, लेकिन तब तक जनलोकपाल आंदोलन के बहाने अरविंद ‘कांग्रेस पार्टी व विदेशी फंडेड मीडिया’ के जरिए देश में प्रमुख चेहरा बन चुके थे। जनलोकपाल आंदोलन के दौरान जो मीडिया अन्ना-अन्ना की गाथा गा रही थी, ‘आम आदमी पार्टी’ के गठन के बाद वही मीडिया अन्ना को असफल साबित करने और अरविंद केजरीवाल के महिमा मंडन में जुट गई।विदेशी फंडिंग तो अंदरूनी जानकारी है, लेकिन उस दौर से लेकर आज तक अरविंद केजरीवाल को प्रमोट करने वाली हर मीडिया संस्थान और पत्रकारों के चेहरे को गौर से देखिए। इनमें से अधिकांश वो हैं, जो कांग्रेस नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के द्वारा अंजाम दिए गए 1 लाख 76 हजार करोड़ के 2जी स्पेक्ट्रम, 1 लाख 86 हजार करोड़ के कोल ब्लॉक आवंटन, 70 हजार करोड़ के कॉमनवेल्थ गेम्स और ‘कैश फॉर वोट’ घोटाले में समान रूप से भागीदार हैं।आगे बढ़ते हैं…! अन्ना जब अरविंद और मनीष सिसोदिया के पीछे की विदेशी फंडिंग और उनकी छुपी हुई मंशा से परिचित हुए तो वह अलग हो गए, लेकिन इसी अन्ना के कंधे पर पैर रखकर अरविंद अपनी ‘आम आदमी पार्टी’ खड़ा करने में सफल रहे। जनलोकपाल आंदोलन के पीछे ‘फोर्ड फाउंडेशन’ के फंड को लेकर जब सवाल उठने लगा तो अरविंद-मनीष के आग्रह व न्यूयॉर्क स्थित अपने मुख्यालय के आदेश पर फोर्ड फाउंडेशन ने अपनी वेबसाइट से ‘कबीर’ व उसकी फंडिंग का पूरा ब्यौरा ही हटा दिया। लेकिन उससे पहले अन्ना आंदोलन के दौरान 31 अगस्त 2011 में ही फोर्ड के प्रतिनिधि स्टीवेन सॉलनिक ने ‘बिजनस स्टैंडर’ अखबार में एक साक्षात्कार दिया था, जिसमें यह कबूल किया था कि फोर्ड फाउंडेशन ने ‘कबीर’ को दो बार में 3 लाख 69 हजार डॉलर की फंडिंग की है। स्टीवेन सॉलनिक के इस साक्षात्कार के कारण यह मामला पूरी तरह से दबने से बच गया और अरविंद का चेहरा कम संख्या में ही सही, लेकिन लोगों के सामने आ गया।सूचना के मुताबिक अमेरिका की एक अन्य संस्था ‘आवाज’ की ओर से भी अरविंद केजरीवाल को जनलोकपाल आंदोलन के लिए फंड उपलब्ध कराया गया था और इसी ‘आवाज’ ने दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए भी अरविंद केजरीवाल की ‘आम आदमी पार्टी’ को फंड उपलब्ध कराया। सीरिया, इजिप्ट, लीबिया आदि देश में सरकार को अस्थिर करने के लिए अमेरिका की इसी ‘आवाज’ संस्था ने वहां के एनजीओ, ट्रस्ट व बुद्धिजीवियों को जमकर फंडिंग की थी। इससे इस विवाद को बल मिलता है कि अमेरिका के हित में हर देश की पॉलिसी को प्रभावित करने के लिए अमेरिकी संस्था जिस ‘फंडिंग का खेल’ खेल खेलती आई हैं, भारत में अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और ‘आम आदमी पार्टी’ उसी की देन हैं।सुप्रीम कोर्ट के वकील एम.एल.शर्मा ने अरविंद केजरीवाल व मनीष सिसोदिया के एनजीओ व उनकी ‘आम आदमी पार्टी’ में चुनावी चंदे के रूप में आए विदेशी फंडिंग की पूरी जांच के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल कर रखी है। अदालत ने इसकी जांच का निर्देश दे रखा है, लेकिन केंद्रीय गृहमंत्रालय इसकी जांच कराने के प्रति उदासीनता बरत रही है, जो केंद्र सरकार को संदेह के दायरे में खड़ा करता है। वकील एम.एल.शर्मा कहते हैं कि ‘फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट-2010’ के मुताबिक विदेशी धन पाने के लिए भारत सरकार की अनुमति लेना आवश्यक है। यही नहीं, उस राशि को खर्च करने के लिए निर्धारित मानकों का पालन करना भी जरूरी है। कोई भी विदेशी देश चुनावी चंदे या फंड के जरिए भारत की संप्रभुता व राजनैतिक गतिविधियों को प्रभावित नहीं कर सके, इसलिए यह कानूनी प्रावधान किया गया था, लेकिन अरविंद केजरीवाल व उनकी टीम ने इसका पूरी तरह से उल्लंघन किया है। बाबा रामदेव के खिलाफ एक ही दिन में 80 से अधिक मुकदमे दर्ज करने वाली कांग्रेस सरकार की उदासीनता दर्शाती है कि अरविंद केजरीवाल को वह अपने राजनैतिक फायदे के लिए प्रोत्साहित कर रही है।अमेरिकी ‘कल्चरल कोल्ड वार’ के हथियार हैं अरविंद केजरीवाल!फंडिंग के जरिए पूरी दुनिया में राजनैतिक अस्थिरता पैदा करने की अमेरिका व उसकी खुफिया एजेंसी ‘सीआईए’ की नीति को ‘कल्चरल कोल्ड वार’ का नाम दिया गया है। इसमें किसी देश की राजनीति, संस्कृति व उसके लोकतंत्र को अपने वित्त व पुरस्कार पोषित समूह, एनजीओ, ट्रस्ट, सरकार में बैठे जनप्रतिनिधि, मीडिया और वामपंथी बुद्धिजीवियों के जरिए पूरी तरह से प्रभावित करने का प्रयास किया जाता है। अरविंद केजरीवाल ने ‘सेक्यूलरिज्म’ के नाम पर इसकी पहली झलक अन्ना के मंच से ‘भारत माता’ की तस्वीर को हटाकर दे दिया था। चूंकि इस देश में भारत माता के अपमान को ‘सेक्यूलरिज्म का फैशनेबल बुर्का’ समझा जाता है, इसलिए वामपंथी बुद्धिजीवी व मीडिया बिरादरी इसे अरविंद केजरीवाल की धर्मनिरपेक्षता साबित करने में सफल रही।एक बार जो धर्मनिरपेक्षता का गंदा खेल शुरू हुआ तो फिर चल निकला और ‘आम आदमी पार्टी’ के नेता प्रशांत भूषण ने तत्काल कश्मीर में जनमत संग्रह कराने का सुझाव दे दिया। प्रशांत भूषण यहीं नहीं रुके, उन्होंने संसद हमले के मुख्य दोषी अफजल गुरु की फांसी का विरोध करते हुए यह तक कह दिया कि इससे भारत का असली चेहरा उजागर हो गया है। जैसे वह खुद भारत नहीं, बल्कि किसी दूसरे देश के नागरिक हों?प्रशांत भूषण लगातार भारत विरोधी बयान देते चले गए और मीडिया व वामपंथी बुद्धिजीवी उनकी आम आदमी पार्टी को ‘क्रांतिकारी सेक्यूलर दल’ के रूप में प्रचारित करने लगी। प्रशांत भूषण को हौसला मिला और उन्होंने केंद्र सरकार से कश्मीर में लागू एएफएसपीए कानून को हटाने की मांग करते हुए कह दिया कि सेना ने कश्मीरियों को इस कानून के जरिए दबा रखा है। इसके उलट हमारी सेना यह कह चुकी है कि यदि इस कानून को हटाया जाता है तो अलगाववादी कश्मीर में हावी हो जाएंगे।अमेरिका का हित इसमें है कि कश्मीर अस्थिर रहे या पूरी तरह से पाकिस्तान के पाले में चला जाए ताकि अमेरिका यहां अपना सैन्य व निगरानी केंद्र स्थापित कर सके। यहां से दक्षिण-पश्चिम व दक्षिण-पूर्वी एशिया व चीन पर नजर रखने में उसे आसानी होगी। आम आदमी पार्टी के नेता प्रशांत भूषण अपनी झूठी मानवाधिकारवादी छवि व वकालत के जरिए इसकी कोशिश पहले से ही करते रहे हैं और अब जब उनकी ‘अपनी राजनैतिक पार्टी’ हो गई है तो वह इसे राजनैतिक रूप से अंजाम देने में जुटे हैं। यह एक तरह से ‘लिटमस टेस्ट’ था, जिसके जरिए आम आदमी पार्टी ‘ईमानदारी’ और ‘छद्म धर्मनिरपेक्षता’ का ‘कॉकटेल’ तैयार कर रही थी।8 दिसंबर 2013 को दिल्ली की 70 सदस्यीय विधानसभा चुनाव में 28 सीटें जीतने के बाद अपनी सरकार बनाने के लिए अरविंद केजरीवाल व उनकी पार्टी द्वारा आम जनता को अधिकार देने के नाम पर जनमत संग्रह का जो नाटक खेला गया, वह काफी हद तक इस ‘कॉकटेल’ का ही परीक्षण है। सवाल उठने लगा है कि यदि देश में आम आदमी पार्टी की सरकार बन जाए और वह कश्मीर में जनमत संग्रह कराते हुए उसे पाकिस्तान के पक्ष में बता दे तो फिर क्या होगा?आखिर जनमत संग्रह के नाम पर उनके ‘एसएमएस कैंपेन’ की पारदर्शिता ही कितनी है? अन्ना हजारे भी एसएमएस कार्ड के नाम पर अरविंद केजरीवाल व उनकी पार्टी द्वारा की गई धोखाधड़ी का मामला उठा चुके हैं। दिल्ली के पटियाला हाउस अदालत में अन्ना व अरविंद को पक्षकार बनाते हुए एसएमएस कार्ड के नाम पर 100 करोड़ के घोटाले का एक मुकदमा दर्ज है। इस पर अन्ना ने कहा, ‘‘मैं इससे दुखी हूं, क्योंकि मेरे नाम पर अरविंद के द्वारा किए गए इस कार्य का कुछ भी पता नहीं है और मुझे अदालत में घसीट दिया गया है, जो मेरे लिए बेहद शर्म की बात है।’’प्रशांत भूषण, अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और उनके ‘पंजीकृत आम आदमी’ ने जब देखा कि ‘भारत माता’ के अपमान व कश्मीर को भारत से अलग करने जैसे वक्तव्य पर ‘मीडिया-बुद्धिजीवी समर्थन का खेल’ शुरू हो चुका है तो उन्होंने अपनी ईमानदारी की चासनी में कांग्रेस के छद्म सेक्यूलरवाद को मिला लिया। उनके बयान देखिए, प्रशांत भूषण ने कहा, ‘इस देश में हिंदू आतंकवाद चरम पर है’, तो प्रशांत के सुर में सुर मिलाते हुए अरविंद ने कहा कि ‘बाटला हाउस एनकाउंटर फर्जी था और उसमें मारे गए मुस्लिम युवा निर्दोष थे।’ इससे दो कदम आगे बढ़ते हुए अरविंद केजरीवाल उत्तरप्रदेश के बरेली में दंगा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार हो चुके तौकीर रजा और जामा मस्जिद के मौलाना इमाम बुखारी से मिलकर समर्थन देने की मांग की।याद रखिए, यही इमाम बुखरी हैं, जो खुले आम दिल्ली पुलिस को चुनौती देते हुए कह चुके हैं कि ‘हां, मैं पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का एजेंट हूं, यदि हिम्मत है तो मुझे गिरफ्तार करके दिखाओ।’ उन पर कई आपराधिक मामले दर्ज हैं, अदालत ने उन्हें भगोड़ा घोषित कर रखा है लेकिन दिल्ली पुलिस की इतनी हिम्मत नहीं है कि वह जामा मस्जिद जाकर उन्हें गिरफ्तार कर सके। वहीं तौकीर रजा का पुराना सांप्रदायिक इतिहास है। वह समय-समय पर कांग्रेस और मुलायम सिंह यादव की समाजवादी पार्टी के पक्ष में मुसलमानों के लिए फतवा जारी करते रहे हैं। इतना ही नहीं, वह मशहूर बंग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन की हत्या करने वालों को ईनाम देने जैसा घोर अमानवीय फतवा भी जारी कर चुके हैं।नरेंद्र मोदी के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए फेंका गया ‘आखिरी पत्ता’ हैं अरविंद!दरअसल विदेश में अमेरिका, सउदी अरब व पाकिस्तान और भारत में कांग्रेस व क्षेत्रीय पाटियों की पूरी कोशिश नरेंद्र मोदी के बढ़ते प्रभाव को रोकने की है। मोदी न अमेरिका के हित में हैं, न सउदी अरब व पाकिस्तान के हित में और न ही कांग्रेस पार्टी व धर्मनिरेपक्षता का ढोंग करने वाली क्षेत्रीय पार्टियों के हित में। मोदी के आते ही अमेरिका की एशिया केंद्रित पूरी विदेश, आर्थिक व रक्षा नीति तो प्रभावित होगी ही, देश के अंदर लूट मचाने में दशकों से जुटी हुई पार्टियों व नेताओं के लिए भी जेल यात्रा का माहौल बन जाएगा। इसलिए उसी भ्रष्‍टाचार को रोकने के नाम पर जनता का भावनात्मक दोहन करते हुए ईमानदारी की स्वनिर्मित धरातल पर ‘आम आदमी पार्टी’ का निर्माण कराया गया है।दिल्ली में भ्रष्‍टाचार और कुशासन में फंसी कांग्रेस की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की 15 वर्षीय सत्ता के विरोध में उत्पन्न लहर को भाजपा के पास सीधे जाने से रोककर और फिर उसी कांग्रेस पार्टी के सहयोग से ‘आम आदमी पार्टी’ की सरकार बनाने का ड्रामा रचकर अरविंद केजरीवाल ने भाजपा को रोकने की अपनी क्षमता को दर्शा दिया है। अरविंद केजरीवाल द्वारा सरकार बनाने की हामी भरते ही केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा, ‘‘भाजपा के पास 32 सीटें थी, लेकिन वो बहुमत के लिए 4 सीटों का जुगाड़ नहीं कर पाई। हमारे पास केवल 8 सीटें थीं, लेकिन हमने 28 सीटों का जुगाड़ कर लिया और सरकार भी बना ली।’’कपिल सिब्बल का यह बयान भाजपा को रोकने के लिए अरविंद केजरीवाल और उनकी ‘आम आदमी पार्टी’ को खड़ा करने में कांग्रेस की छुपी हुई भूमिका को उजागर कर देता है। वैसे भी अरविंद केजरीवाल और शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित एनजीओ के लिए साथ काम कर चुके हैं। तभी तो दिसंबर-2011 में अन्ना आंदोलन को समाप्त कराने की जिम्मेवारी यूपीए सरकार ने संदीप दीक्षित को सौंपी थी। ‘फोर्ड फाउंडेशन’ ने अरविंद व मनीष सिसोदिया के एनजीओ को 3 लाख 69 हजार डॉलर तो संदीप दीक्षित के एनजीओ को 6 लाख 50 हजार डॉलर का फंड उपलब्ध कराया है। शुरू-शुरू में अरविंद केजरीवाल को कुछ मीडिया हाउस ने शीला-संदीप का ‘ब्रेन चाइल्ड’ बताया भी था, लेकिन यूपीए सरकार का इशारा पाते ही इस पूरे मामले पर खामोशी अख्तियार कर ली गई।‘आम आदमी पार्टी’ व उसके नेता अरविंद केजरीवाल की पूरी मंशा को इस पार्टी के संस्थापक सदस्य व प्रशांत भूषण के पिता शांति भूषण ने ‘मेल टुडे’ अखबार में लिखे अपने एक लेख में जाहिर भी कर दिया था, लेकिन बाद में प्रशांत-अरविंद के दबाव के कारण उन्होंने अपने ही लेख से पल्ला झाड़ लिया और ‘मेल टुडे’ अखबार के खिलाफ मुकदमा कर दिया। आगे भी.......

Read more »

Monday, 10 February 2014

Everyday menace: In Pakistan, getting to work more dangerous than militants

Everyday menace: In Pakistan, getting to work more dangerous than militants

Everyday menace: In Pakistan, getting to work more dangerous than militants
Read more »

A village where Hindu girls wear 'janeu जनेऊ "

A village where Hindu girls wear 'janeu जनेऊ "
Patna, Feb 9 In a tradition that is more than four decades old, girls in a Bihar village wear the 'janeu' or the sacred thread, which is otherwise the preserve of men or boys.
Suman Kumari, Priyanka Kumari, Pratima Kumari, Kunti Kumari - all Hindu girls - share one thing in common -- they started wearing the 'janeu' after a ceremony in their village.
It is a rare thing to happen in a conservative and a semi-feudal society in rural Bihar.
"The girls are part of nine girls of Mania village, who were given the 'janeu' amidst chanting of vedic mantras at yagyopavit sanskar at Dyanand Arya High School," said Hari Narayan Arya.
Usually, this sacred thread signifies the transition from boyhood to manhood in Hindu society.
According to Acharya Siddheswar Sharma, who conducted the rituals, the girls are between 13 and 15 years.
"There is no caste basis for girls to wear janeu in this village," he said.
Sharma said the tradition was being followed in the village for over forty years.
"We are committed to organising the yagyopavit sanskar every year for girls on the occasion of Basant Panchami," he said.
It began when Vishwanath Singh set up a girls school in Mania village in 1972 at a time when women were discouraged from joining school. Undaunted, he sent his four daughters to school, which encouraged and inspired others.
Singh then held the thread ceremony for his elder daughter. The practice was later adopted by others and it became a tradition in the village.
Singh's daughter Meera Kumari, the girl with whom the practice started, said she and her three sisters still wear the sacred thread.
"Wearing the janeu is a symbol that we are no less important than men," Meera Kumari, a school teacher, said.
More than four dozen girls in the village wear the sacred thread.
Read more »

U.S. Draws Own Line Over South China Sea Dispute

U.S. Draws Own Line Over South China Sea Dispute

SEA-ninedash600.jpg
The United States for the first time has explicitly rejected the U-shaped, nine-dash line that China uses to assert sovereignty over nearly the whole South China Sea, experts say, strengthening the position of rival claimants and setting the stage for what could be an international legal showdown with Beijing.

Washington has always said that it takes no position on competing territorial claims in the South China Sea among China, the Philippines, Vietnam, Malaysia, Taiwan and Brunei and opposes any use of force to resolve such issues.

But U.S. Assistant Secretary of State for East Asian and Pacific Affairs Daniel Russel in effect ended the ambiguity last week when he testified before the House of Representatives Committee on Foreign Affairs, experts say.

Russel said that under international law, maritime claims in the South China Sea "must be derived from land features" and that any use of the nine-dash line by China to claim maritime rights not based on claimed land areas "would be inconsistent with international law."

The international community, he said, would welcome China to clarify or adjust its nine-dash line claim to bring it in accordance with the international law of the sea.

"I think it is imperative that we be clear about what we mean when the United States says that we take no position on competing claims to sovereignty over disputed land features" in the region, Russel said.

Historical map

Unlike other countries, Beijing's claim to up to about 90 percent of the South China Sea is not based on claims to particular islands or other features but on a historical map China officially submitted to the United Nations in 2009.

The map contains a nine-dash line forming a U-shape down the east coast of Vietnam to just north of Indonesia and then continuing northwards up the west coast of the Philippines.

The nine-dash line has been considered by many experts as incompatible with the 1982 United Nations Convention on the Law of the Sea (UNCLOS), which rejects historically based claims.

Jeffrey Bader, once U.S. President Barack Obama's chief advisor on China, referred to Russel's testimony and said that "for the first time, the United States government has come out publicly with an explicit statement that the so-called 'nine-dash line' ... is contrary to international law.

"By explicitly rejecting the nine-dash line, Assistant Secretary Russel and the administration have drawn our own line in the right place," Bader, now a senior expert at Washington-based Brookings Institution, said in a report.

Washington had made clear that its objection is a "principled one, based on international law, not a mere rejection of a claim simply because it is China’s," he said.

Russel's statement was immediately dismissed by Beijing, which has grown increasingly aggressive in asserting its territorial claims in the region, fueling tensions in waters important for fishing, shipping and oil exploration.

"Some US officials make groundless accusations against China," Chinese foreign ministry spokesman Hong Lei said.

The nine-dash line, he said, was established way back in 1948, a year before the establishment of the People’s Republic of China, and had been “supported by successive Chinese governments.”

'Big deal'

Washington's public rejection of the nine-dash line "is a semi-big deal," said Julian Ku, a law professor at New York-based Hofstra University.

It "shows how the U.S. is going to use international law as a sword to challenge China’s actions in this region," he said on Opinio Juris, an online forum for informed discussion and lively debate about international law and international relations.

He expressed surprise that the U.S. government has never actually publicly stated such an argument before.

Russel's statement "fits comfortably within the U.S. government’s long-standing positions on the nature of maritime territorial claims."

Washington has always been a little unclear whether it has been neutral on the nine-dash line but Russel ended the ambiguity, Ku said.

Bader said the U.S. government should make clear to the other South China Sea claimants, and to Southeast Asian countries like Singapore and Thailand, that Washington expect them to be public in their rejection of the nine-dash line under international law.

"The U.S. should ensure that its approach is not seen as unilateral," he said. "It is not, but sometimes other countries are publicly quiet but privately supportive."

The U.S. move also offers a "legal roadmap" for other countries that are not claimants in the region, Ku said.

"It is hardly a controversial legal position, and should be fairly easy for the EU, Canada, or Australia to adopt [assuming they don’t mind tweaking China]."

Philippines challenge

China's nine-dash line claim is already under challenge by the Philippines in the United Nations.

Manila had brought the case up a year ago under the UNCLOS, saying the nine-dash line has no basis under the law.

UNCLOS states that coastal states such as the Philippines are entitled to a territorial sea extending 12 nautical miles as well as a 200-mile economic exclusion zone in which they have rights to fish and extract undersea resources.

It's the first time that Beijing has been challenged under the convention, ratified by more than 160 countries—including China and the other claimants in the South China Sea.

In 2012, China took control of a disputed and potentially strategic reef — the Scarborough Shoal — in the South China Sea that had been under Philippine jurisdiction.

Washington's rejection of the nine-dash line came after President Benigno Aquino sought the support of the international community in resisting China’s territorial claims and ahead of U.S. President Barack Obama's upcoming visit to Japan, Malaysia and the Philippines as part of an effort to make up for a canceled visit to the region last year.

“If we say yes to something we believe is wrong now, what guarantee is there that the wrong will not be further exacerbated down the line?” Aquino said in an interview with the New York Times. “At what point do you say, ‘Enough is enough’? Well, the world has to say it.”

Air defense zone

Beijing's increasing assertiveness in defending its territorial claims in the region has also been reflected by
its recent declaration of an air defense identification zone (ADIZ) over disputed islands controlled by Japan in the East China Sea, and its new rules to regulate fishing in a huge tranche of the South China Sea.

Speculations have been rife that Beijing would also impose an ADIZ in the South China Sea with Washington warning that any such move could lead the U.S. military to change its posture in the region.

“We oppose China’s establishment of an ADIZ in other areas, including the South China Sea,” Evan Medeiros, senior director for Asian affairs at the National Security Council, told Japan's Kyodo news agency about a week ago.

“We have been very clear with the Chinese that we would see that (setting of another ADIZ) as a provocative and destabilizing development that would result in changes in our presence and military posture in the region,” Medeiros said.
Read more »

Wednesday, 5 February 2014

China Tightens Security Presence in Kardze Ahead of Tibetan New Year

China Tightens Security Presence in Kardze Ahead of Tibetan New Year


tibet-draggo-armored-vehicles-jan-2014.jpg
Armored cars and other military vehicles are deployed on streets of Draggo, Jan. 27, 2014.
 Photo courtesy of Free Tibet.
Security forces have been deployed in large numbers to a Tibetan county in western China’s Sichuan province, apparently in preparation for possible political unrest around the Tibetan New Year next month, sources say.

The stationing of paramilitary police in Kardze (in Chinese, Ganzi) county in Sichuan’s Kardze prefecture follows a similar deployment in the prefecture’s Draggo (Luhuo) county two weeks ago on the second anniversary of a deadly crackdown by police on protesters, according to sources in the region.

“On Jan. 30, Chinese New Year, China sent a large number of paramilitary troops to Kardze county, and most of the county offices are now guarded by these forces,” a local resident told RFA’s Tibetan Service this week.

Most of the newly arrived security troops are encamped at a military base outside the county seat, Kardze town, with others stationed at the county’s grain trading office, the source said.

“On the morning of the New Year, additional troops and armored vehicles patrolled the streets of Kardze in a show of military strength to threaten the Tibetans,” the source said.

“All roads leading to the sites of protests in 2008 and 2009 were put under watch, and troops are patrolling those sites around the clock,” he added.

Though Chinese authorities had tried to pressure Kardze residents to publicly celebrate the Chinese New Year, local Tibetans ignored the holiday, he said.

“They are also not sure whether they will celebrate Losar [the Tibetan New Year] next month, because they feel this would be disrespectful to Tibetans who have lost their lives" in protests against Chinese rule, he added.

Meanwhile, large numbers of Chinese paramilitary police were sent two weeks ago to Kardze prefecture’s Draggo county, where police on Jan. 23, 2012 fired on Tibetan protesters calling for Tibetan freedom, killing two and injuring at least 30.

“The Chinese forces are carrying out military drills on the main road both day and night in an effort to intimidate the local Tibetans,” one source told RFA, adding that police were “randomly” checking the IDs of Tibetans in the street.

“Two or three Tibetans sitting in restaurants or seen conversing in the streets are immediately dispersed by the police,” he said.

“So Tibetans are now living in a very restricted environment.”

Sporadic demonstrations challenging Beijing’s rule have continued in Tibetan-populated areas of China since widespread protests swept the area in 2008.

A total of 125 Tibetans have also set themselves ablaze in self-immolation protests calling for Tibetan freedom since February 2009, with another six setting fire to themselves in India and Nepal.
Read more »

Activists Call on Chinese leader to Set up Human Rights Ministry

Activists Call on Chinese leader to Set up Human Rights Ministry

china-new-citizens-banner-2013.jpg
An undated file photo of members of the New Citizens' Movement in Beijing holding a banner calling on officials to disclose their assets.
 EYEPRESS NEWS
More than 1,000 people have signed an open letter to Chinese President Xi Jinping calling for better protection of citizens' rights under the law, and for a nationwide system for monitoring human rights abuses, a veteran dissident said on Wednesday.

The letter, titled "Stability is Founded on Rights Protection," called on Xi to allow rights groups to register legally, to set up a human rights ministry, and to enact laws guaranteeing the right to freedom of speech, a free press, and the right to free association and demonstration.

The letter, which had garnered more than 1,200 signatures by Wednesday morning, also called for a "strike hard" campaign against human rights violators, and a collaboration mechanism for non-government groups to work with officials on human rights issues.

"Of course, we hope that China will ultimately achieve government by constitution, but this is very hard for a country like China to achieve, so there is a process," Wuhan-based dissident Qin Yongmin, a co-founder of the banned opposition China Democracy Party (CDP) who penned the letter, told RFA.

Qin, 57, served a lengthy jail term for subversion after he helped found the CDP in 1998, and recently called on the new generation of leaders under Xi to enter into "peaceful dialogue" with Chinese citizens, or risk the fall of the regime in a manner similar to that of Romanian dictator Nicolae Ceausescu.

He said there currently exist no official bodies in China charged with the protection of human rights. And while non-government rights groups exist, they are, strictly speaking, illegal.

Shandong-based rights lawyer Li Xiangyang said he had signed the letter, even though he suspected it would have little effect.

"We are citizens living under a dictatorial system," Qin said. "We don't have the opportunity to oppose the government with guns and knives, so all we can do is demand a dialogue."

"I guess it's our form of protest," he said.

Violations continue
Li and Qin both said that rights violations have continued apace in recent weeks, citing large numbers of detentions of ordinary citizens last year, as well as the "suicide" death of Xue Fushun, father of prominent Shandong activist Xue Mingkai, in police custody last week, which many regard as suspicious.

Qin's letter laid the blame for an increase in rights violations firmly at the door of the ruling Chinese Communist Party's political and legal affairs committee, which until November 2012 was run by hard-line security chief Zhou Yongkang.

Some of Zhou's family and close allies are currently under investigation by the party's disciplinary agency, sparking widespread speculation that he is himself the subject of a behind-the-scenes probe and political purge.

"[Zhou's tenure] saw large numbers of suspicious deaths and miscarriages of justice," Qin's letter said.

"The rights of Chinese citizens to a livelihood, property, freedom of expression and appeal [were all subject to] wanton violations."

Last December, Qin was briefly detained en route to Beijing to apply to register his "China Human Rights Watch" group with the civil affairs ministry in Beijing.

Qin was initially sentenced to eight years in prison for "counterrevolutionary propaganda and subversion" in the wake of China's Democracy Wall movement in 1981.

A contemporary of exiled dissident Wei Jingsheng, Qin served a further two years' "re-education through labor" in 1993 after he penned a controversial document titled "Peace Charter."

By 1998, Qin was the editor of the China Human Rights Observer newsletter, and one of a number of political activists who attempted to register the CDP.

Aside from Qin, Hangzhou-based CDP founder Wang Youcai and Beijing-based Xu Wenli received 11-year and 13-year jail terms respectively for being linked to the opposition party. Both were later exiled to the United States on medical parole.
Read more »

Saturday, 1 February 2014

Hundreds in Break-Out Protest at Beijing's Majialou 'Black Jail'

Hundreds in Break-Out Protest at Beijing's Majialou 'Black Jail'

china-petitioner-police-tiananmen-dec-2013.jpg
Police take away a petitioner in Tiananmen Square in Beijing, Dec. 4, 2013.
 AFP
Several hundred inmates of a large but unofficial detention center on the outskirts of Beijing broke out of the compound early Friday in protest at their treatment over Chinese New Year.

The petitioners stood outside the Majialou detention center and sang "The Internationale" after the breakout, saying they could no longer tolerate being kept in such a crowded place with no water to drink and not enough food to eat, participants and eyewitnesses said.

"We couldn't stand it, and we all got angry and forced our way out," petitioner Wang Yan, who took part in the breakout, told RFA's Mandarin Service.

"There was no water to drink, no quilts, and the air was terrible, and we couldn't sleep. We were hungry and had no water. Are we human beings?" she said.

"They just gave us two steamed buns and a piece of ham, and a tiny bag of pickled mustard tuber, and then locked us up for many hours," Wang added.

She said interceptors, police and officials sent from petitioners' hometowns to escort them back from Beijing or other cities with a higher level of government, had beaten a number of people during their detention.

"The interceptors came in and beat up some petitioners," Wang said. "Yesterday, there was a petitioner who had a hole beaten in their head."

She said the group had faced off with police and officials who tried to get them back behind bars.

"We told them that the petitioners were uniting ... and that if they tried to use force to suppress us, we would gain our human rights by means of our own deaths," Wang said.

"We said we have had enough of injustice, and if you start bullying us again, there will be no way out for us but death."

New Year lockup

Ying Ligang, a petitioner and eyewitness from the eastern Chinese province of Jiangxi said at least 1,000 petitioners had been locked up in Majialou for several days, amid a shutdown of official business for Chinese New Year.

"About 600-700 of them broke out," he said.

"They were shouting slogans which called on President Xi Jinping to ... bring down [corruption] and give them back their human rights," Ying said. "They also wished him a happy new year."

"The crowd of petitioners were in a very angry mood, complaining about illegal actions by the state complaints office towards people with grievances, and shouting slogans."

"They even sang the 'Internationale' and blocked traffic for several hours," he added.

Around 20 police were dispatched to the scene, as well as 10 security guards, while officials in charge of Majialou tried to persuade the petitioners back into the center.

"The petitioners are a disadvantaged group, so what else were they to do?" Ying said. "All they can do is exchange their lack of freedom for some public compassion and sympathy."

Security beefed up

Authorities in Beijing have detained large numbers of people with complaints against the government after they tried to visit the homes of party leaders ahead of Chinese New Year, which marks the advent of the Year of the Horse on Friday.

Police have stepped up patrols and identity checks on streets and at intersections in recent days, raiding areas where petitioners usually stay and sending them to out-of-town detention centers like Majialou, petitioners said.

Detention in centers like Majialou—officially known as 'reception centers'—follows no procedure under China's current judicial system, and is an interim measure used by the authorities to briefly incarcerate those who complain before sending them home under escort.

But many petitioners converge on major centers of government during high-level political meetings and significant dates in the calendar, in the hope of focusing public attention on their plight.

Nearly 20,000 grievances are filed daily to complaints offices across China in person, according to official figures released last November.

China has pledged to revamp its system for lodging complaints against the government as part of a package of reforms announced recently, but rights activists say the changes aren't likely to lead to more justice for petitioners.

Many petitioners are middle-aged or elderly people with little or no income living in constant fear of being detained by officials from their hometown who run representative offices in larger cities seeking out those who complain about them.

Those who do pursue complaints against the government—often for forced evictions, loss of farmland, accidents, or death and mistreatment in custody—say they are repeatedly stonewalled, detained in "black jails," beaten, and harassed by the authorities.
Read more »