Translate

Featured post

हाइफा मुक्ति - आनंद कुमार, पटना

हमारा इतिहास लिखने वाले लुगदी उपन्यासकारों ने चूँकि कई तथ्य पहले ही छुपा रखे हैं इसलिए भारतीय सेना के कारनामे को छुपाना भी आसान हो गया | पह...

Google+ Followers

Saturday, 23 November 2013

हमारे पूर्वज : हमारा अभिमान - हिन्दुस्तानी इस्लाम

by - Az. Muzaffarpuri

हमारे पूर्वज  : हमारा अभिमान - हिन्दुस्तानी इस्लाम 

इंसान अपनी हर चीज बदल सकता है, वह अपनी राष्ट्रीयता बदल सकता है, प्रांतीयता बदल सकता है, अपना मजहब बदलसकता है, अपना नाम बदल सकता है पर चाहकर भी अपने पूर्वज और अपने बाप-दादों को नहीं बदल सकता। इस कथनको साबित करने के लिये कर्इ दिलचस्प उदाहरण दिये जा सकते हैं। उदाहरणार्थ ,
1. एक इंसान जनवरी, 1947 में वत्र्तमान बांग्लादेश के खुलना जिले में पैदा हुआ था। अगर उस समय उसे अपनी राष्ट्रीयता लिखनी होती तो वो हिंदुस्तानी या भारतीय लिखता। 1947 मे देश का विभाजन हुआ और पूर्वी बंगाल का खुलना जिला पाकिस्तान में चला गया। अब उस आदमी की राष्ट्रीयता बदल कर पाकिस्तानी हो गर्इ। 1971 में पाकिस्तान से बांग्लादेश अलग हुआ और खुलना बांग्लादेश मे आ गया और उस इंसान की राष्ट्रीयता बदलकर बांग्लादेशी हो गर्इ। इस 25 साल कीअवधि में उसकी राष्ट्रीयता तीन बार बदली।
2. इसी तरह एक आदमी वत्र्तमान झारखंड के रांची में उस समय पैदा हुआ जब बंगाल, बिहार और उड़ीसा एक प्रांत थे,इसलिये उस समय उसकी प्रांतीयता बंगाली थी। फिर बिहार के बंगाल से अलग होने के बाद उसकी प्रांतीयता बदल करबिहारी हो गर्इ और झारख्ांड बनने के बाद फिर से उसकी प्रांतीयता बदली और वो झारखंडी हो गया। यानि उसकी प्रांतीयता तीन बार बदली।
3. राम एक हिंदू परिवार में पैदा हुआ। बाद में उसने मजहब तब्दील कर ली और र्इसार्इ हो गया और उसने अपना नामबदलकर पीटर रख लिया। बाद में किसी ने उससे कहा कि इस्लाम धर्म ज्यादा बेहतर है और इस मजहब में भी हजरत र्इसा को अत्यंत बुलंद दर्जा प्राप्त है तो उसने इस्लाम ग्रहण कर लिया और अपना नाम बदल कर रहीम खान रख लिया।यानि तीन बार मजहब और नाम दोनों बदला।
पहले उदाहरण में राष्ट्रीयता तीन बार बदली, दूसरे में प्रांतीयता तीन बार बदली और तीसरे मे नाम और मजहब दोनों तीनबार बदला पर इन तीनों ही परिसिथतियों में इंसान अपने बाप-दादाओं को या पूर्वजों को नहीं बदल सका। पूर्वज नहीं बदलेजा सकते, ये निर्विवाद सत्य है। रामलाल भले रहीम खान बन जाये या पीटर मसीह पर यदि उसके बाप का नाम श्यामलाल और दादा का नाम मनोहर लाल था तो वो नाम वही रहेगा, उसमें परिवत्र्तन की कोर्इ गुंजार्इश नहीं है।
हजरत मोहम्मद साहब के जाने के बाद उनके अनुयायी दुनिया भर में उनके द्वारा स्थापित दीन को फैलाने निकल पड़े।अरब के समीपवत्र्तीं देश, अफ्रीका आदि के साथ-2 भारतीय उपमहाद्वीप पर भी भले आक्रांता के रुप में सही पर वोदीने-इस्लाम का संदेश लेकर आये। उसके बाद भारतबर्ष पर लंबे समय तक विभिन्न मुसिलम आक्रमणकारी आते रहे, कर्इसूफी संत भी आये और इस उपमहाद्वीप में इस्लाम विस्तारित होता चला गया। भारतबर्ष में इस्लाम तलवार के जोर से फैलाया सूफियों के प्रेम, भार्इचारा और बराबरी के संदेश से, ये एक अलग अनुसंधान का बिषय हो सकता है पर ये हकीकत हैकि भारतीय उपमहाद्वीप में इस्लाम स्वीकार करने वालों में अधिकांश के पूर्वज हिंदू थे। इस देश पर शासन करने वालों नेऔर इस्लाम की शिक्षाओं को गलत रुप में प्रस्तुत करने वाले मौलानाओं ने इन मतांतरित हुये मुसलमानों को ये समझाना शुरु किया कि तुम्हारा मूल इस देश में नहीं है वरन तुम्हारे पूर्वज अरब और मध्य एशिया के थे। जिन लोगों को अपने हिंदूमूल का पता था उनको मौलानाओं ने यह कहकर बरगलाया कि अपने काफिर पूर्वजों से किसी भी तरह का संबंध जोड़नातो दूर उन्हें स्मरण करना भी तुम्हें जहन्नमी बना देगा। इन सब बातों का परिणाम ये हुआ कि इस उपमहाद्वीप में इस्लाममत में दीक्षित हुये लोगों ने खुद को इस देश की मूल परंपराओं से और अपने पूर्वजों से काट लिया और खुद को विदेशी समझने लगे और अपना भावात्मक संबंध अरब से जोड़ लिया। जिन परंपराओं, रीति-रिवाजों और विरासतों पर उन्हें गर्व करना था उसे वो हेय समझने लगे। भारत में रहकर भारतीय परंपराओं और पूर्वजों के प्रति नफरत भाव और इस देश के राष्ट्रनायकों के प्रति अश्रद्धा भाव की इस मानसिकता ने देश के शेष समाज की नजरों में उनकी निष्ठा को संदिग्ध बना दियाऔर उस समय से जो हिंदू-मुसिलम संबंधों में दरार बननी शुरु हुर्इ वो आज तक कायम है।
                अगर इन मतांतरित लोगो को कोर्इ ये समझाता कि अरब से उन्होनें सिर्फ एक पूजा-पद्धति ली है वरन संस्कृति, भाषा, वर्ण और नस्ल से वो इस देश के बाकी लोगों जैसे ही हैं तो ये समस्या आज नहीं रहती।काश कोर्इ उन्हें ये भी समझाता कि धर्म-परित्र्तन अपनी परंपराओं और पूर्वपुरुषों से कटना नहीं है तो भी ये समस्या नहीं रहती। इस संबंध में 1948 में अलीगढ़ मुसिलम युनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में नेहरु जी द्वारा दिया गया भाषण इसे पूरी तरह स्पष्ट कर देता है। नेहरु जी ने अपने इस ऐतिहासिक भाषण में कहा था- ''मुझे अपनी विरासत और उन पूर्वजों पर गर्व है, जिन्होनें भारत को एक बौद्धिक और सांस्कृतिक सर्वश्रेष्ठता प्रदान की। आप इस अतीत के बारे में कैसा महसूस करतें हैं? मेरी तरह ही आप भी स्वयम को इसमें साझीदार महसूस करतें हैं कि नहीं? मेरी तरह ही आप भी इस विरासत को स्वीकार करते और इस पर गर्व करतें हैं
या नहीं? या आप स्वयं को इससे अलग मानतें हैं और आप इस विरासत को समझे बिना ही इसे अगली पीढ़ी को सौंप देंगें? क्या आप यह सोचकर रोमांचित नहीं होते कि हम इस विशाल संपदा के न्यासी हैं? मैं आपसे ये प्रश्न पूछ रहा हूँ क्योंकि हाल के बर्षों में अनेक शकितयां लोगों का मन गलत रास्तों की ओर मोड़ने और इतिहास की धारा को विकृत करने के प्रयास में लगी हुर्इ है। आप मुसलमान हैं और मैं एक हिंदू हूँ। हम भिन्न-2 धार्मिक आस्थाओं का पालन कर सकतें हैं या हम नासितक भी हो सकतें हैं। मगर इसके कारण हम उस सांस्कृतिक विरासत से दूर नहीं जा सकते, जो उतनी ही आपकी है जितनी मेरी है। जबकि हमारा अतीत हमें एक साथ जोड़ता है, तो हम अपने वत्र्तमान या भबिष्य को हमें विभाजित करने की अनुमति क्यों दे? अत: चाहे हमारे इष्टदेव कहीं भी हों, मगर भारत में हम ऋषियों की ही परंपरा के वाहक हैं। हमारी धार्मिक आस्था चाहे कोर्इ भी हो, लेकिन हम सभी आध्यातिमकता की उनकी परंपरा के उत्तराधिकारी हैं। आध्यातिमकता का
अर्थ क्या है? यह रिवाजों या सिद्धांतों का जमधट या पारलौकिकता नहीं है, बलिक यह एकता के दृषिटकोण पर शाश्वत सिद्धांतों पर आधारित एक जीवन पद्धति है। अपनी शकित को संगठित करने के लिये हमें इन शाश्वत सिद्धांतों को जानना होगा, जो हमारी भिन्न धार्मिक आस्थाओं के बाबजूद हम सभी को संगठित कर सकतें हैं।''
वास्तव में भारतीय उपमहाद्वीप के दो बड़े समुदायों के बीच एकता का सबसे बड़ा आधार यही है जिसे जवाहरलाल नेहरु ,पूज्य गुरुजी से लेकर मौलाना वहीउद्दीन खान सभी ने माना है।

पूजा-पद्धति बदलने से पूर्वज  नही बदलते 

भारतबर्ष में इंडोनेशिया के बाद सबसे ज्यादा मुसलमान रहतें हैं। भारत से अलग हुये पाकिस्तान और बांग्लादेश में भी मुसलमानों की भारी तादाद है। इन लोगों ने कुछ सौ-दो सौ-पांच सौ साल पहले अपनी पूजा पद्धति बदल ली थी पर इनका मूल तो हिंदू ही था। ये भी उन्हीं हिंदुओं की संतानें हैं जिनके वंशज होने का दावा यहां के सनातन धर्माबलंबी करतें हैं। सवाल ये है कि क्या पूजा-पद्धति की तब्दीली से पूर्वज भी बदल जातें हैं इस्लाम धर्म का कट्टर  से कट्टर  मताबलंबी भी इस सवाल का जबाब न में देगा पर जाहिल मौलवियों के द्वारा गुमराह किये जाने के कारण इस उपमहाद्वीप के बहुसंख्यक मुसिलमों ने खुद को अपने पूर्वजों और पूर्व की परंपराओं से काट लिया है। भारत के विभाजन और सैकड़ों बर्षों से चली आ रही हिंदू-मुसिलम वैमनस्यता के जड़ में यही बातें हैं। समान पूर्वज और समान संस्कृति एकता का सबसे बड़ा आधार है जिसकी पुषिट पवित्र कुरान भी करता है। सूरह इमरान की 64 वीं आयत में एकता का मंत्र बताते हुये कहा गया है कि 'आओ उस बात की तरफ जो हमारे और तुम्हारे बीच समान है।' और भारतीय उपमहाद्वीप के हिंदुओं और मुसलमानों के
बीच समानता का सबसे बड़ा आधार ये है कि हमारे पूर्वज समान हैं ,हम सबकी धमनियों में समान रक्त प्रवाहित हो रहा है।

पूर्वजों  का सम्म्मान :: इस्स्लाम आौर रसूल (सल्ल0) की तालीम

जाहिल मौलवी भले ही बहकातें हो कि चूंकि तुम्हारे पूर्वज काफिर थे इसलिये उनके साथ किसी भी तरह का संबंध रखना कुफ्र है पर ये बात रसूल (सल्ल0) की सुन्नत से भी साबित है कि पूर्वजों के साथ संबंध विच्छेद करना जायज नहीं है। ये धटना हजरत मोहम्मद (सल्ल0) साहब के जमाने की है। जब उन पर कुरान उतरना शुरु हो गया तो उन्होनें अपने मानने वालों से कहा कि वो खुद कुरान को समझें और दूसरों को भी समझाये। एक शख्स जो रोज उनके पास कुरान सीखने आता था एक दिन उनसे पास आया तो उसका चेहरा उतरा हुआ था। रसूल (सल्ल0) ने कारण पूछा तो उसने कहा, या रसूल(सल्ल0)! आपको तो पता ही है कि मेरा बाप इस्लाम पर नहीं है। रसूल (सल्ल0) ने फरमाया, हाँ, मुझे पता है। उसने कहा, मैं जब घर पर कुरान की तिलावत करने जाता हूँ तो वह मुझे रोकतें हैं और हमारी तकरार हो जाती है। कल रात भी हमारी इसी बात को लेकर तकरार हो गर्इ और मैनें उनपर हाथ उठा दिया। ये सुनते ही रसूल (सल्ल0) ने उससे कहा, तुम मेरी नजरों के सामने से हट जाओ और जाकर अपने बाप से माफी मांगो। उस शख्स ने कहा, या रसूल (सल्ल0) वो तो काफिर है, मैं क्यों उससे माफी मांगू? रसूल (सल्ल0) ने फरमाया, वो इस्लाम पर हो या किसी भी मजहब पर तुझे इससे कोर्इ फर्क नहीं पड़ना चाहिये, क्योंकि वो तेरा बाप है और उसे तफलीफ देना इस्लाम के खिलाफ है। इस संबंध में केवल एक नहीं और भी कर्इ उदाहरण हैं। हजरत मोहम्मद की शादी उम्मे हबीबा बिन अबू सूफियान से हुर्इ थी और अबू सूफियान उस वक्त इस्लाम नहीं लाये थे यानि काफिर थे और काफिर ही नहीं हजरत मोहम्मद (सल्ल0) के सबसे बड़े दुश्मन थे। एक बार जब वो मदीना आये तो अपनी बेटी के पास गये। जमीन पर एक चादर बिछा था। अबू सूफियान को देखते ही उनकी बेटी ने उसे जल्दी से हटा लिया। अबू सूफियान उस समय मक्का के सबसे बड़े सरदार थे, बेटी को ऐसा करते देख उन्होंनें उससे पूछा, तुम ये चादर शायद इसलिये हटा रही हो क्योंकि ये पुराना, फटा हुआ और पैबंद लगा हुआ है? बेटी ने कहा, नहीं बलिक इसलिये हटा रही हूँ कि एक काफिर कहीं रसूल (सल्ल0) के पाक बिस्तर पर न बैठ जाये और उसे नापाक न कर दे। इसके बाद उन्होंनें अबू सूफियान से कहा कि आप बाहर ही रहें क्योंकि जब तक मैं रसूल (सल्ल0) से हुक्म न ले लूं आप अंदर नहीं आ सकते। उम्मे हबीबा ने जब नबी (सल्ल0) के पास जाकर सारा किस्सा उन्हें सुनाया कि कैसे मैनें अपने काफिर बाप को धर में धुसने और आपके पाक चादर पर बैठने नहीं दिया। रसूल (सल्ल0) ये सुनकर अपनी बीबी पर बहुत नाराज हुये और फरमाया, भले अबू सूफियान काफिर और मुशिरक है पर वो तुम्हारे बाप है और बाप को सम्मान देना तुम्हारे ऊपर फर्ज है। खुद नबी (सल्ल0) की सुन्नत से ये बात साबित है कि उन्होंनें भी अपने गैर-मुसिलम रिश्तेदारों और बुजर्ुगों का हमेशा एहतराम किया और उनको सम्मान देने के कभी कोर्इ कमी नहीं की। जब नबी (सल्ल0) गारे-हिरा में थे और उनपर पहली वह्य नाजिल हुर्इ थी तो वो बहुत धबरा गये थे और इस आलम में अपनी बीबी खदीजा के पास गये और उनसे सारा किस्सा बयान कर पूछा कि मेरे जैसा कमजोर आदमी इस बोझ को कैसे उठा सकेगा? तो वो बोलीं ,खुदा की
सौगंध, यह कलाम अल्लाह ने आप पर इसलिये नहीं उतारा कि आप नाकाम और नामुराद हों और खुदा आपका साथ छोड़ दे। खुदा तआला ऐसा कब कर सकता है, आप तो वह हैं जो रिश्तेदारों के साथ नेक व्यवहार करतें हैं और असहायों का बोझ उठातें हैं। वह चरित्र जो देश से मिट चुके थे, आपके द्वारा स्थापित हो रहें हैं। अतिथि की सहायता करतें हैं, मुसीबतजदा लोगों की मदद करतें हैं। कया ऐसे व्यकित को खुदा परीक्षा में डाल सकतें हैं? बुखारी शरीफ में इस धटना का वर्णन है। ये रसूल (सल्ल0) द्वारा अपने रिश्तेदारों और बुजर्ुगों के एहतराम करने के उनके गुणों की प्रशंसा है। गौरतलब है कि उस वक्त रसूल (सल्ल0) के तमाम रिश्तेदार मुशिरक थे पर बाबजूद इसके रसूल (सल्ल0) के रिश्तेदारों के एहतराम के गुणों की प्रशंसा ही की गर्इ है।
               नबी के पिता उनके विलादत से पहले फौत हो गये थे और जब वो महज छह साल के थे तो उनकी वालिदा भी फौत हो गइ थी। वो अपने दादा अब्दुल मुत्तलिब के संरक्षण में रहे और उनकी आयु के आठवें साल में अब्दुल मुत्तलिब का भी इंतकाल हो गया। जिसके बाद उनका लालन-पालन उनके चाचा अबू तालिब ने किया। अबू तालिब के रहते हुये मक्का के बड़े-2 सरदारों की हिम्मत नहीं थी कि वो खुलकर रसूल (सल्ल0) की मुखालफत करें पर जब अबू तालिब का निधन हो गया तो मक्के के लोगों की हिम्मत बढ़ गर्इ और वो रसूल (सल्ल0) को इतना सताने लगे कि उन्हें अपना जन्मस्थान तक छोड़ के मदीना हिजरत करना पड़ गया। ये बात गौरतलब है कि हजरत मोहम्मद (सल्ल0) के चाचा अबू तालिब ने इस्लाम कबूल नहीं किया था, यहां तक कि जब वो मरणशैय्या पर थे तब भी हजरत मोहम्मद (सल्ल0) ने उनसे कहा कि चाचा आप इस्लाम कबूल कर लो पर उनका जबाब था कि मैं अब्दुल मुत्तलिब के दीन पर ही इस दुनिया से जाता हूँ। (इससे यह बात
भी साबित हुआ कि हजरत मोहम्मद (सल्ल0) के दादा भी इस्लाम पर नहीं थे) उनके ऐसा कहने और इस्लाम न लाने के बाबजूद उनके प्रति मोहम्मद साहब के सम्मान में कोर्इ कमी नहीं आर्इ। उनकी मौत से वो बहुत दु:खी रहने लगे और उस साल का नाम ही उन्होंनें गम का साल रख दिया। रसूल (सल्ल0) की एक नहीं वरन अनेकों हदीस हैं जिसमें उन्होंनें पूर्वजों के प्रति सम्मान दिखाने का आदेश दिया है।
              इतना ही नहीं रसूल (सल्ल0) की सीरत से ये भी पता चलता है कि आदमी भले ही अपने मजहब तब्दील कर ले पर पूर्वजों का अंश अपने वजूद से दूर नहीं कर सकता। जो बात भारत में मुसलमानों और हिंदुओं के बीच समानता स्थापित करने के प्रयासों में कही जाती है कि 'हमारी पूजा-पद्धति भले ही भिन्न हो पर हमारे रगों में एक ही पूर्वज का समान रक्त प्रवाहित हो रहा है' ठीक वही भाव रसूल (सल्ल0) की इस हदीस से भी निकल कर आता है। अबू हुरैरा से रिवायत एक हदीस है जिसमें वो फरमातें हैं कि एक देहाती नबी (सल्ल0) की खिदमत में आकर कहने लगा, मेरी बीबी को बच्चा हुआ है पर वह बच्चा काला हैे, इसलिये मैनें उसके बारे में कह दिया कि चूंकि वह मेरे रंग और मेरी शक्ल पर नहीं है इसलिये ये मेरी औलाद नहीं बलिक इसका बाप कोर्इ और है जिसकी शक्ल पर यह पैदा हुआ है। इस पर नबी (सल्ल0) ने फरमाया, तुम्हारे
पास ऊँटें हैं? उसने फरमाया, जी है। इस पर आपने उससे पूछा, उसका रंग क्या है? उसने जबाब दिया, लाल! आपने फिर फरमाया उसमें कोर्इ भूरे रंग का भी है? उसने कहा, है। आपने पूछा, यह रंग कहां से आया जबकि उसके माँ-बाप इस रंग के नहीं? इस पर उस देहाती ने कहा, इसकी नस्ल में कोर्इ ऊँट इस रंग का रहा होगा जिससे यह रंग उसे मिला है। यह सुनकर आपने फरमाया, तो तुम्हारे बाप-दादाओं में भी कोर्इ काले रंग का होगा जिसके कारण लड़के को ऐसा रंग मिला। फिर नबी (सल्ल0) ने उस बद्दू से कहा कि वह उस लड़के का बाप होने से इंकार न करे। ये हदीस इस बात को साबित करने के लिये पर्याप्त है कि मजहब की तब्दीली पूर्वजाें से संबंध खत्म नहीं करती।

पूर्वजों का  एहतराम न करना गुनाहे--कबीरा

हजरत मोहम्मद की सीरत से तो ये बात साबित हैं ही कि पूर्वजों का सम्मान हम पर फर्ज है पर इस्लाम के इतिहास में एक और धटना है जो बताती है कि पूर्वजों का सम्मान न करना गुनाहे-अजीम है। इस्लाम में एक मुसलमान के लिये यह फर्ज है कि वह हजरत मोहम्मद से पूर्व भेजे गये सभी नबियों के ऊपर र्इमान लाये और उनके प्रति श्ऱद्धाभाव रखे। इस्लाम के बारे में सामान्य जानकारी रखने वाला भी ये बात जानता है कि हजरत इब्राहीम के दो बेटे थे , हजरत इस्माइल और हजरत इसहाक। बनी-र्इसरायल में जितने नबी (सल्ल0) भेजे गये सभी हजरत इसहाक की औलादों में से थे जबकि हजरत इस्माइल की औलादों में केवल हजरत मोहम्मद को पैगंबर (सल्ल0)ी दी गर्इ। इस्लाम के बारे में जानकारी रखने वाले ये भी जानतें हैं कि हजरत यूसूफ के खानदान में पैगंबर (सल्ल0)ी परंपरा विरासत की तरह चली आ रही थी । उनके बाप, दादा सभी पैगंबर (सल्ल0) थे पर हजरत यूसूफ के बाद उनके खानदान से पैगंबर (सल्ल0)ी छीन ली गर्इ। इसकी वजह ये थी कि जब यूसूफ के बाप हजरत याकूब अपने बेटे से मिलने मिश्र पहुँचे तो यूसूफ उस समय शाही लिबास पहने तख्त पर बैठे हुये थे। दरअसल वो अपने बाप को अपना शानो-शौकत दिखाना चाह रहे थे ताकि बेटे को अपने बेटे का वैभव और रुतबा देखकर सुकून हो। इसी क्रम में उन्हें ये ध्यान न रहा कि बाप के आने के बाद उनके सम्मान में खड़ा होकर तख्त से नीचे उतरा जाता है। तभी फरिश्ते जिब्रील नाजिल हुये और यूसूफ (अलैहि0) से कहा, ऐ यूसूफ (अलैहि0)! अपना हाथ उठाओ। यूसूफ (अलैहि0) ने जैसे ही हाथ उठाया, उनके हाथ से एक प्रकाश किरण निकल कर ऊपर चली गर्इ। यूसूफ (अलैहि0) ने जिब्रील (अलैहि0) से पूछा, ये क्या था? जिब्रील (अलैहि0) ने कहा, चूंकि तूने अपने बाप की ताजीम में कोताही की कि इसलिये तेरे खानदान से अल्लाह ने पैगंबरी उठा ली है और अब से तेरे बाद तेरे खानदान में कोर्इ पैगंबर न होगा। जिब्रील (अलैहि0) ने यूसूफ (अलैहि0) से ये नहीं कहा कि तुमने अल्लाह के एक नबी की इज्जत नहीं की बलिक ये कहा कि तू अपनी बाप के सम्मान में खड़ा नहीं हुआ इसलिये तेरे नस्ल से पैबंगरी छीन ली गर्इ। यानि बाप का अपमान किसी भी हालत  में जायज नहीं है।

हमारे पूर्वज  :: हमारा अभिमान

हमारे पूर्वज हमारा अभिमान हैं, हमारी पहचान है। इस बात को इंडोनेशिया, र्इरान, तुर्की आदि देशों ने साबित कर दिया है। इंडोनेशिया, र्इरान आदि मुसिलम राष्ट्र हैं जहां मुसलमानों के अलावा दूसरे मताबलंबियों की तादाद नगण्य है। इंडोनेशिया तो विश्व का सबसे बड़ा इस्लामी मुल्क है। कुछ सौ साल पहले इंडोनेशिया इस्लाम में इस्लाम मत में दीक्षित हो गया पर वहां के लोगों ने भारतीय मुसलमानों की तरह खुद को अपने पूर्वज, परंपरा व संस्कृति से नहीं काटा। भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी जब विश्व सिंधी सम्मेलन में भाग लेने के लिये अफगानिस्तान गये हुये थे तो विश्व के इस सबसे बड़े इस्लामी मुल्क में हिंदुत्व का प्रभाव देखकर चकित रह गये। वहां के आने के बाद आडवाणी ने बताया कि वहां के स्थलों , संस्थानों और लोगाें के नामों पर संस्कृत का स्पष्ट प्रभाव झलकता है। वहां के लोग रामायण और महाभारत के कथानक से भलीभांंति
परिचित हैं। अपनी इस यात्रा में आडवाणी जी बाली की राजधानी डेनपासर भी गये। वहां एक मूत्र्ति की तरफ इशारा करते  हुये उनके ड्राइवर ने बताया कि ये धटोत्कच की मूत्र्ति है। धटोत्कच को तो हिंदुस्तान के बहुत सारे लोग नहीं जानते पर मुसिलम इंडोनेशिया का एक सामान्य ड्राइवर उससे भलीभांति परिचित है और सिर्फ परिचित ही नहीं है वरन अपने देश में धूमने आने वाले पर्यटकों को गर्व से अपनी प्राचीन विरासत और धरोहर दिखाता है। इसी तरह की एक और धटना है। प्रख्यात साहित्यकार विधानिवास मिश्र एक बार इंडोनेशिया की यात्राा पर थे। वहां इंडोनेशिया के कला विभाग के निदेशक सुदर्शन के साथ जब वो इंडोनेशिया के प्राचीन स्थलों का निरीक्षण कर रहे थे तो रास्ते में उन्होनें देखा कि कुछ संगतराश पथ्थरों पर कुछ अक्षर उकेर रहें हैं। विधानिवास मिश्र ने सुर्दशन से जानना चाहा कि इन पथ्थरों पर क्या उकेरा जा रहा है? तो सुर्दशन ने (जो इस्लाम मत के मानने वाले थे) ने बताया कि यहां के मुसिलमो में रामायण और महाभारत के प्रति अतिशय
भकित भावना है इसलिये कुछ लोग अपने कब्र पर लगाये जाने वाले पथ्थर पर जावार्इ भाषा में महाभारत और रामायण की कोर्इ पंकित खुदवातें हैं। यह सुनकर विधानिवास मिश्र स्तंभित रह गये कि एक ऐसे मुल्क में जहां 98 फीसदी से अधिक मुसलमान हैं पर फिर भी अपने पूर्वजों की विरासत के प्रति इतना सम्मान भाव है। यह कहानी केवल इंडोनेशिया के आम जनों की नहीं है वरन वहां की राज्यव्यवस्था और राजकीय प्रतीकों में भी पूर्वजों के प्रति सम्मान झलकता है। इंडोनेशिया के मिलिट्री इंटिलेजेंस का आधिकारिक शुभंकर वीर बजरंग वली हैं, वहां के एयरवेज का नाम गरुड़ है जो भगवान बिष्णु का वाहन हैं।
                   तुर्की एक समय सारे इस्लामी मुल्कों पर हुकूमत करता था। मुस्तफा कमाल पाशा के आगमन के बाद उनमें भी राष्ट्रीय जागरण भाव आया। मुस्तफा कमाल पाशा और उनके साथियों ने कहा कि 'हमारी उपासना पद्धति नहीं बदलेगी, हम कुरान, हदीस और हजरत मोहम्मद साहब के प्रति भी अपने श्रद्धा भाव को खत्म नहीं करेंगें, हमारा मजहब इस्लाम रहेगा पर अपने राष्ट्रजीवन का निर्माण हम अपनी संस्कृति के आधार पर करेंगें।' तुर्की के मुसलमानों ने अपनी पूजा-पद्धति भले अरबों से ली पर इस्लाम के नाम पर उनकी भाषा, उनके पूर्वज, उनकी संस्कृति को अपनाने से इंकार कर दिया। पूर्वजों के प्रति अभिमान का यह भाव मिश्र में भी आया जब मिश्र के युवकों ने फराओ राजाआें की उपलबिधयों पर गर्व करना शुरु किया और उनके बनाये पिरामिडों को मिश्र के राष्ट्रीय गौरव और प्रतीक से जोड़ना शुरु किया। उनकी इन कोशिशों ने कÍरपंथियों को नाराज कर दिया और वो कहने लगे कि काफिर पूर्वजों का सम्मान करना कुफ्र है। पर मिश्र के नवजागृतों ने उनकी दलील को यह कहकर ठुकरा दिया कि जो हजरत मोहम्मद से पहले पैदा हुआ वो कैसे काफिर हो सकता है? पूर्वजों को सम्मान देने और उनकी उपलबिधयों पर अभिमान करने का यह भाव मिश्र में आज भी है। जागरण की इस लहर से र्इरान भी अछूता नहीं रहा। वहां भी रजाशाह पहलवी के नेतृत्व में सुधारों का अभियान चला और वो र्इरान के पूर्वजों और राष्ट्रपरुषों को उनका . उचित स्थान दिलवाने में जुट गये। र्इरान के प्राचीन गौरव, मजूसी राजाओं के वीरतापूर्ण अभियानों और रुस्तम, सोहराब, जमशेद आदि पूर्वजों और राष्ट्रनायकों के प्रति सम्मान भाव रखने की परंपरा शुरु हो गर्इ। इतना ही नहीं अपने महान पूर्वजों के नाम पर उन्होंनें सड़कों, भवनों आदि के नाम रखने भी आरंभ कर दिये। आश्चर्यजनक रुप से यह जागृति पाकिस्तान में
भी आर्इ। वहां भी पाणिनी की पांच हजारवीं जयंती मनार्इ गर्इ, इन बातों पर चर्चायें आरंभ हुर्इ कि झेलम के तट पर सिकंदर से लोहा लेने वाला राजा पोरस भी उन्हीं के पूर्वज हैं। दुर्भाग्य से भारतीय मुसलमानों में यह जागृति अभी आनी बाकी है। यहां के मुसलमानों के मन में अगर पूर्वजों और अपनी संस्कृति के प्रति सम्मान भाव आ जाये तो रामजन्मभूमि जैसे विवादित मसले चुटकियों में हल हो सकतें हैं।

.पूर्वजों से खुद को काटना कुफ्र 

      भारतीय उपमहाद्वीप के मुसलमानों की समस्या यह है कि इन लोगों ने अपनी पूजा-पद्धति तो बदली ही साथ ही खुद को अपने अतीत, अपनी संस्कृति और अपने पूर्वजों से भी काट लिया और खुद को अरब से जोड़ लिया। हजरत सर्इद इब्न अबी वक्कास रिवायत करतें हैं, नबी (सल्ल0) ने फरमाया कि जिसने अपनी जात बदल ली, हालांकि उसको ये इल्म है कि ये मेरी जात नही तो जन्नत उसपर हराम है। (बुखारी व मुसिलम) भारतीय उपमहाद्वीप के मुसलमानों में कर्इ लोग हैं जो खुद को कुरैशी, शेख, सैयद, अब्बासी आदि वंश के बतलातें हैं जबकि ये तो अरब के कबीलों के नाम हैं। डा0 हम्जा अहमद अज-जियान ने हिमायतुल अंसाब फी शरीयतील इस्लामिया नाम से एक किताब भी लिखी है। इस किताब में उन्होंनें कर्इ हदीसो का हवाला देते हुये लिखा कि अपने पूर्वजों से खुद को काट लेना कुफ्र है। उन्होंनें अपनी किताब में न केवल पूर्वजों से संबंध विच्छेद करने वाले को हदीसों के हवाले से काफिर कहा है बलिक उन लोगों के लिये भी इस वाक्य का इस्तेमाल किया है जो खुद को उस वंश से जोड़ लेता है जिस वंश का वो है ही नहीं। भारतीय उपमहाद्वीप में रहने वाले हिंदुओं और मुसलमानों के पूर्वज समान है, ये निर्विवाद सत्य है। इसलिये अपनी वंश-परंपरा यहां से जोड़ना इस्लाम का हुक्म है।
              यहां के मुसलमान मजहब तब्दील करने के साथ एक काम ये भी करतें हैं कि वो अपना नाम भी बदल कर लेतें हैं जबकि अपना नाम अपने पूर्वजों के नाम पर रखना और अपने नाम में पूर्वजों के नाम को शामिल रखना भी रसूल (सल्ल0) के सुन्नतों में हैं और कुरान का हुक्म है। सही बुखारी और सही मुसिलम में हजरत अबू हुरैरा से रिवायत एक हदीस है जिसमें नबी (सल्ल0) फरमातें हैं, जिसने मुँह मोड़ा अपने बाप-दादा से तो उसने काफिर का काम किया और कुफ्र किया। यानि इंसान को अपनी निस्बत अपने बाप-दादाओं की तरफ करनी चाहिये। इतना ही नहीं है एक हदीस में नबी ने फरमाया, बेशक तुम कयामत के दिन अपने नाम और बापों के नाम से पुकारे जाओगे (इमाम अहमद, अबू दाऊद, जिल्द- 3, बाब- 485, हदीस- 1513,सफा-550) यानि हमारा मजहब कोर्इ भी हो पर कयामत के दिन हमारा नाम हमारे बाप-दादाओं के साथ ही लिया जायेगा। महज इसलिये अपना नाम अपने बाप दादा के नाम पर नहीं रखना कि वो हिंदू थे या गैर-मुसिलम थे गलत है। हजरत मोहम्मद (सल्ल0) ने अपने एक गुलाम जैद को अपना मुँहबोला बेटा बना लिया था। सही बुखारी में
अब्दुल्ला बिन उमर से रिवायत एक हदीस है जिसमें वो फरमातें हैं कि जैद बिन हारिसा को हमलोग हमेशा जैश बिन मुहम्मद कहा करते थे जब कुरान की ये आयत नाजिल हो गर्इ कि 'उनके बाप के नाम से ही पुकारो यह सबसे उत्तम है' तो हम उसके बाद जैद को जैद बिन हारिसा नाम से ही बुलाने लगे। इससे ये साबित हुआ कि भले हजरत मोहम्मद (सल्ल0) ने जैद को अपना बेटा बना लिया पर कुरान ने लोगों को मना फरमाया कि जैद को जैद बिन मुहम्मद कहकर बुलाया जाये, कुरान ने यही हुक्म दिया कि जैद को उनके हकीकी बाप के नाम से ही पुकारना बेहतर है। हजरत मोहम्मद की पतिनयों और कर्इ बड़े सहाबियों के नामों को देखने से भी ये बात साबित हो जाती है कि पूर्वजों के काफिर या इस्लाम के इंकारी
होने के बाबजूद भी नाम में उनके नाम को शामिल किया जा सकता है। इसके कर्इ उदाहरण हैं-
1. इक्रमा बिन अबू जहल- ये मोहम्मद साहब और इस्लाम के सबसे बड़े दुश्मन अबू जहल के बेटे थे। इन्होंनें फतह मक्का के बाद र्इमान लाया था। अपने इस्लाम लाने के पूर्व ये भी रसूल (सल्ल0) और उनके दीन के सबसे बड़े मुखालिफों में थे। सहाबियों के बीच इनका स्थान काफी ऊँचा था। रसूल (सल्ल0) ने कभी भी इनसे ये नहीं कहा कि चूंकि तुम्हारा बाप काफिर था इसलिये तुम अपना नाम बदल लो। वो तो खुद भी इन्हें इक्रमा बिन अबू जहल कहकर पुकारते थे।
2. उम्मे-हबीबा बिन अबू सूफियान- ये अबू सूफियान की बेटी थीं। अबू सूफियान भी इक्रमा की तरह बहुत बाद में र्इमान लाने वाले थे और जिस समय उम्मे हबीबा से रसूल (सल्ल0) का निकाह हुआ था उस समय अबू सूफियान ने इस्लाम नहीं लाया था। पर रसूल (सल्ल0) ने कभी भी अपनी बीबी को अपना नाम नाम बदलने को नहीं कहा।
3. सफिया  बित हुयिय ंिबंत अख्तब- ये यहूदियों के कबीले से थीं और बाद में इस्लाम लार्इ तथा हजरत मोहम्मद से इनका निकाह हुआ। इनके पति, वालिद, चचा और भार्इ सभी खैबर की जंग में मारे गये। मतलब ये कि इनका पूरा खानदान और इनके परिवारजन रसूल (सल्ल0) के मुखालिफ थे पर निकाह के बाद कभी भी रसूल (सल्ल0) ने इनसे ये नहीं कहा कि तुम अपने नाम से अपने बाप-दादाओं के नाम को निकाल दो।
4. उमर बिन खत्ताब- ये भी रसूल (सल्ल0) के बड़े सहाबियों में एक थे और दूसरे खलीफा थे पर रसूल (सल्ल0) ने इन्हें भी कभी इन्हें अपना नाम बदलने को नहीं कहा।
5. अली बिन अबू तालिब- ये हजरत मोहम्मद के चचाजाद भार्इ थे और अबू तालिब के बेटे थे। अबू तालिब ने इस्लाम कबूल नहीं किया था पर नबी (सल्ल0) ने अली को कभी नाम बदलने को नहीं कहा।
                 इस तरह के एक नहीं वरन अनेकों उदाहरण इस बात को साबित करने के लिये काफी हैं कि इस्लाम में महज इसलिये अपना नाम तब्दील कर लेना कि ये उनके काफिर पूर्वजों के नाम पर है जायज नहीं है। और ऐसा हो भी क्यों न जबकि खुद रसूल (सल्ल0) का ये फरमान था। इब्ने अब्बास से रिवायत एक हदीस है जिसमें रसूल (सल्ल0) ने फरमाया, जिसने अपना नाम अपने बाप के नाम पर नहीं रखा उसपर खुदा, फरिश्ते और तमाम इंसानों की लानत है। (इब्ने माजह, इमाम अमहद) इस संबंध में एक और हदीस है, तुम्हारा अपनी बाप की तरफ से निस्बत हटाना कुफ्र है। यह भी फरमाया कि अपने बाप की तरफ से अपने नसब का सिलसिला खत्म न करो क्योंकि यह कुफ्र है। यह हदीस हजरत उमर से रिवायत है।
                  नाम बदलने और अपने पूर्वजों को विस्मृत करने का चलन अफगानिस्तान और भारतीय उपमहाद्वीप में ज्यादा है। दुनिया के बाकी इस्लामी देशों में ऐसा नहीं है। मजहब के रुप में इस्लाम को चुनने के बाबजूद उन्हानें अपने पूर्वजों को विस्मृत नहीं किया है। इस मामले में इंडोनेशिया एक मिसाल है। बहुसंख्यक मुसिलम आबादी वाले इस देश के लोगों के नामों को देखकर हैरानी होती है पर इंडोनेशियार्इ लोगों ने अपने पूर्वजों को स्मरण करने का एक ये भी उत्कृष्ट चलन कायम रखा है। इस्लाम के आने से पूर्व इंडोनेशिया में हिंदू धर्म का बोलबाला था इसलिये वहां के मुसिलमों के नामों में संस्कृत शब्द देखने को मिलते हैं। सुहार्तो, सुकर्ण, मेधावती सुकर्णोपुत्री आदि वहां के राष्ट्राध्यक्षों के नाम रहें हैं। वहां के मुसलमानों के संस्कृतनिष्ठ नामों को देखकर दुनिया के दूसरे देशों के मुसलमान जब उनसे पूछतें हैं कि ये काफिरों वाला नाम क्यों रखा? तो उनका जबाब होता है, 'कुछ पीढ़ी पहले हमने उपासना पद्धति बदला होगा। परंतु इससे बाप-दादा तो नहीं बदलते है, बाप-दादाओं की स्मृति और परंपरा को कायम रखने का यह सर्वोत्कृष्ट पद्धति है।' वहां के राष्ट्रपति सुकर्ण से जब बीजू पटनायक ने पूछा कि आपका नाम सुकर्ण क्यों रखा गया? तो उन्होंनें कहा कि उनके पिता महाभारत का नियमित पारायण करते थे और उनका प्रिय पात्र कर्ण था पर चूंकि वह युद्ध में असत्य और अधर्म के साथ खड़ा हुआ था इसलिये मेरे पिता ने कर्ण के नाम में सुकर्ण लगाकर मेरा नाम रख दिया। इस मामले में अहमदिया मुसलमानों भी इंडोनेशियार्इ मुसलमानों की तरह ही हैं। इन्होनें भी अपने नामों के द्वारा अपने पूर्वजों की स्मृतियों को अपने जेहन में बनाय रखा है। अहमदी मुसलमानों के नामों में नानक, राम, मीरा, कृष्ण, गौतम आदि जुड़े होतें हैं।                                                                                                                                           सबित ये हुआ कि अगर कोर्इ महज इसलिये अपने पूर्वज से निस्बत तोड़ लेता है कि वो मुसलमान नहीं थे तो वो खुदा और उसके रसूल (सल्ल0) के हुक्म का नाफरमान है।

पूर्वजों  के लिये दुआायें

अपने पूर्वजों को याद करने व उनके लिये दुआयें करने की परंपरा दुनिया के प्राय: हर मजहब में है। हिंदू अपने पूर्वजों के लिये पिंड दान करता है तो मुसलमाल शबे-बरात में कबि्रस्तान जाकर उनके मगिरफत के लिये दुआयें करतें हैं। पूर्वज काफिर हो या मोमिन, वो तो बदला नहीं जा सकता और अगर पूर्वजों की मगिरफत की दुआ मांगी जायेगी तो उसमें गैर-मुसिलम पूर्वज आयेंगें ही। अगर कोर्इ शबे-कद्र की रात की दुआओं में सिर्फ अपने मुसलमान पूर्वजों की मगिरफत चाहता है तो वो कुरान और हदीस का अवज्ञाकारी है। अपने काफिर बाप आजर के लिये तो कयामत के दिन सेमेटिक मजहबों के जनक इब्राहीम भी पैरवी करेंगें भले ही उनकी इबादत कबूल हो या न हो। यह बात भी तो समझने की है कि आज अगर कोर्इ मुसलमान है जो अपने पूर्वजों की वजह से है। अपने जिन पूर्वजों को मुसिलम काफिर समझकर हेय समझतें हैं , उन्हीं की बदौलत वो इस दुनिया में आयें है उसे इस्लाम की दौलत मिली है। और यह बात तो रसूल (सल्ल0) की सीरत से भी साबित है। मस्नदे-अहमद में आता है कि एक जिहाद में सहाबियों ने छोटे-2 बच्चों को भी कत्ल किया। जब नबी (सल्ल0)
को ये पता चला तो बहुत नाराज हुये और फरमाया, क्या बात है कि लोग हद से आगे निकलने लगे और बच्चों को भी कत्ल करने लगे। इस पर एक सहाबी ने की, रसूल (सल्ल0) वो तो मुशिरकों की औलादें थीं। नबी (सल्ल0) ने फरमाया, तो क्या हुआ? याद रखो कि तुममे से बेहतरीन लोग भी मुशिरकों की ही औलादें हो। पढ़े-लिखे मुसलमान इस बात को समझतें हैं और इसलिये उनकी मगिरफत की दुआओं में उनके सारे पूर्वज शामिल होतें हैं। महाराष्ट्र के पूर्व राज्यपाल मोहम्मद फजल का उदाहरण तो अधिक पुराना नहीं है। एक बार श्री फजल क्षिप्रा नदी के तट पर पिंड दान करने गये तो उन्हें पत्रकारों ने धेर लिया। पूछा, आप तो मुसलमान है फिर ये गैर-इस्लामी काम क्यों कर रहें हैं? मोहम्मद फजल ने इसपर जबाब दिया कि मैं शबे-बरात के दिन कबि्रस्तान जाता हूँ अपने उन पूर्वजों की आत्मा की शांति की दुआ करने जो आज से ढ़ार्इ सौ-तीन सौ साल पहले के थे, जो मुसलमान थे और यहां आया हूँ अपने उन पूर्वजों की आत्मा की शांति की प्रार्थना करने जो उन
ढ़ार्इ सौ-तीन सौ साल पहले से लेकर हजारों-लाखों बर्ष पहले के थे, जो हिंदू थे। अगर पूर्वजों की स्मृति के लिये
कबि्रस्तान को रोशन किया जा सकता है तो श्मशानों पर दीपक क्यों नहीं जलाया जा सकता? यह कितना बड़ा अपराध है कि अपने जिन पूर्वजो के कारण आज हम इस दुनिया में हैं, जिन पूर्वजों ने हम आने वाली पीढ़ी के लिये अपना पेट काटकर संपत्ति और जमीन अर्जित की, हमारे जन्म से पहले हमारे लिये धर बनबा कर रखा, अपने उन्हीं पूर्वजों को हम अपनी दुआओं में भूला देतें हैं। अगर मगिरफत की अपनी दुआओं में हम अपने पूर्वजों को छोड़ सकतें हैं तो फिर उनके द्वारा सहेजी गर्इ जमीन और अर्जित संपत्ति लेने से भी हमें परहेज करनी चाहिये। नैतिकता का तकाजा तो यही कहता है कि अगर सिर्फ गैर-मुसिलम होने की वजह से वो हमारी दुआओं में शामिल नहीं हो सकते तो फिर उन गैर-मुसिलमों के द्वारा अर्जित जमीन पर भी हमारा कोर्इ हक नहीं होना चाहिये। अपने हिंदू पूर्वजों की मगिरफत के लिये दुआयें कर रहें मो0 फजल कोर्इ इस्लाम विरुद्ध काम नहीं कर रहे थे वरन वो वही कर रहे थे जो रसूल (सल्ल0) की परंपरा था। नबी (सल्ल0) ने अपनी एक हदीस में फरमाया था, कयामत के रोज एक हाफिज अपनी तीन पीढि़यों को तथा एक आलिमे-दीन अपनी सात पीढि़यों को बख्शवायेगा। इस हदीस का एक मतलब ये भी है कि अगर कोर्इ मुसिलम आलिमे-दीन है तो कियामत के रोज दीन से मोहब्बत करने की इस वजह से उसके सात पीढ़ी तक के पूर्वज भी बख्शे जायेंगें।
मोहम्मद फजल इसलिये भी गैर-इस्लामी काम नहीं कर रहें थे क्योंकि उन्होंनें जो काम एक दिन किया वही काम तो दुनिया के सारे मुसलमान हर रोज करतें हैं। एक मुसलमान नमाज के बाद की अपनी दुआओं में अपने पूर्वजों की मगिरफत की ही तो दुआ मांगता है। वो कहता है-''ऐ अल्लाह! बख्श मुझको और मेरे माँ-बाप को और मेरे उस्ताद को !' और बखिशश की इस दुआ में मोमिन मां-बाप की कोर्इ शत्र्त नहीं है।

अंत में 

इस संबंध में एक बहुत ही प्रेरक उदाहरण नागालैंड के दो अफसरों का है। ये दोनों अधिकारी की परीक्षा उत्र्तीण करने के बाद ट्रेनिंग करने गये। उस टे्रंनिंग कैंप में देश के विभिन्न हिस्सों से अधिकारी परीक्षा में उत्र्तीण युवक आये हुये थे। संध्याकाल की सांस्कृतिक सत्र के दौरान सबसे कहा गया कि यदि आप किसी बिशिष्ट इलाके से अथवा किसी बिशेष जाति, जनजाति वर्ग से आतें हैं जिससे हममें से अधिकांश लोग परिचित नहीं हैं तो उसकी परंपरा, संस्कृति, रीति-रिवाजों के बारे में हमें बतायें ताकि हम सभी को एक दूसरे को जानने का मौका मिले। जब नागालैंड के युवकों की बारी आर्इ तो ये जिस जनजाति से आते थे उसकी परंपरायें, त्योहार, खान-पान, पूजा-पद्धति आदि के बारे में बताने को कहा गया। नागालैंड की अधिकांश आबादी मिशनरियों के चलते र्इसार्इ मत में दीक्षित हो चुकी है और मिशनरियों ने वहां के भोले-भाले लागों को उनकी परंपराओं और संस्कृतियों से काट दिया है। उन दोनों युवकों ने तो जब से आंखें खोली थी, अपने चारों तरफ र्इसार्इ संस्कृति, भाषा-भूषा और त्योहारों को ही देखा था। उनलोगों ने वही बताना शुरु कर दिया। सभा के संचालक ने उनसे कहा, ये तो आप हमें र्इसार्इ धर्म के बारे में बता रहे हो, हमें आपके कबीले के बारे में जानना है। तो उन युवकों ने कहा कि हमें तो यही बता है जो हम बता रहें हैं। इसपर प्रबंधक ने उन्हें डांट कर ये कहते हुये मंच से उतार दिया कि अगर र्इसार्इयत के बारे में ही हमें सुनना है तो क्या इस शहर में र्इसार्इ पादरी नहीं है? हम भारत से बाहर जातें हैं तो दुनिया हमसे वेद के बारे में पूछती है, उपनिषदों के बारे में पूछती है, योग और अध्यात्म पर सवाल करती है , हड़प्पा , मोहनजोदड़ो और वैदिक संकृति के बारे में जानना चाहती है, राम, कृष्ण , बुद्ध ,महावीर और आर्यभÍ के बारे में पूछती है क्योंकि ये चीजें हमारी राष्ट्रीय संस्कृति का आधार है, हमारी धरोहर है। योग, अध्यात्म, गीता, रामायण, महाभारत और राम, कृष्ण, बुद्ध, महावीर से इस देश की पहचान है और चूंकि हमारी पहचान हमारे वतन के साथ जुड़ी हुर्इ है इसलिये इन चीजों का जानना और अपने पूर्वपुरुषों के प्रति सम्मान भाव रखना हमें दुनिया में प्रतिष्ठा दिलायेगा। हमारी पूजा-पद्वति भले ही भिन्न-2 हो पर हम सब उन महापुरुषों के वंशज हैं जिन्होंनें दुनिया को वसुधैव-कुटुंबकम का अभिनव मंत्र दिया, हजारों साल तक विश्वगुरु बन कर दुनिया का मार्गदर्शन किया, दुनिया को शून्य की खोज करके दी (जो कंप्यूटरों के आबिष्कार का आधार है), अंक दिये, शल्य-चिकित्सा सिखार्इ और न जाने कर्इ ऐसे ज्ञान दिये जिसे आधुनिक विज्ञान आज जान पा रहा है। भारतीय उपमहाद्वीप का मुसलमान रंग, नस्ल और पूर्वज परंपरा से सिर्फ और सिर्फ भारतीय
है। इस्लाम कबूल करने से वो न तो अरब हो सकता है, न तुर्क और न ही र्इरानी और न ही अपना पूर्वज बदल सकता है। मुसलमान अगर इन बातों को समझे और तदनुरुप व्यवहार करे तो निशिचत रुप से आपसी मतभेद दूर होगें और परस्पर एकात्मता भाव सुढ़ृढ़ होगा।

0 comments: