Translate

Featured post

“गीता” : एक ‘मानवीय ग्रंथ’ … एक ‘समग्र जीवन दर्शन’ … व ‘मानव समाज की अप्रतिम धरोहर’

            "गीता” का शाब्दिक अर्थ केवल गीत अर्थात् जो गाया जा सके से लिया जाता है । किन्तु आतंरिक रूप से इसका अर्थ है कि जिस...

Google+ Followers

संपर्क सूत्र

Golok Behari Rai
Khanna Bhawan
Chandralok Chauk
Muzaffarpur - 842002
Bihar, Bharat Varsh
golokbr@gmail.com
contact - +919431095469

0 comments: