Translate

Thursday, 12 July 2012

पूर्वोत्तर भारत ३ देशों के साथ रेल सम्पर्क से जुड़ेगा


पूर्वोत्तर भारत ३ देशों के साथ रेल सम्पर्क से जुड़ेगा 
           बंगलादेश,भूटान,म्यांमार,और नेपाल  जल्द ही भारत के पूर्वोत्तर राज्यों के साथ रेल सम्पर्क से जुड़ जायेगा।द्विपक्षीय व्यापार और पर्यटन के विकास को बढ़ावा देने के लिए भारत के पूर्वोत्तर फ्रंटियर रेलवे ने हल में ही रेलवे बोर्ड को एक क्षेत्र सर्वेक्षण रिपोर्ट पेश की है,जिससे त्रिपुरा,मणिपुर,असम, प्.बंगाल और बिहार पड़ोसी देश बंगलादेश,भूटान,म्यांमार,और नेपाल से जुड़ जायेगें।
       जबकि त्रिपुरा की राजधानी अगरत्तला से अखौरा (ब्रह्मनबनिया, बंगलादेश) के बीच रेल लाइन का कम पहले से ही शुरू है। तथा भारतीय केन्द्र सरकार अगरत्तला से अखौरा (बंगलादेश) से जोगबनी (बिहार) से विराटनगर (नेपाल) रेल लाइन बिछाने के कार्य के लिए ४९३.५२ करोड़ रु० स्वीकृत कर चुकी है।
       भारत द्वारा बनाये जा रहे इस १५ किमी लम्बे रेल मार्ग अगरत्तला से अखौरा के निर्माण से इस महत्वपूर्ण जक्शन से बंगलादेश के चटगाव पोर्ट,सिलहट,और ढाका जक्शन जुड़ जायेगें। जो इस वर्ष के रेलवे बजट में है।साथ ही अगरत्तला - अखौरा के बीच सड़क सम्पर्क भी है, जिस पर २००३ में ढाका - अगरत्तला बस सेवा प्रारम्भ की गई थी।
      भूटान के साथ प्रस्तावित रेल सम्पर्क में हांसीमारा (प० बंगाल) से फुन्सिलिंग (भूटान), रंगिया (असम) से समदृपजोंखर (भूटान), बानरहाट (प० बंगाल) से सामची (भूटान) और कोकराझार (असम) से नाम्लांग(भूटान) का है।
    इसके साथ ही न्यू जलपाईगुडी (प० बंगाल) से काकरभिठा (नेपाल) रेल मार्ग भी प्रस्तावित है।
          NFR के एक अधिकारी के अनुसार मोरेह (मणिपुर) से जिरिवाम (म्यांमार) रेल मार्ग का सर्वेक्षण कार्य भी बहुत जल्द पूरा कर लिया जायेगा।  
       

0 comments:

Post a Comment